HIGHLIGHTS


कोरोना वायरसः विज्ञान की राह पर धर्म

Root News of India 2020-04-05 15:59:41    INTERNATIONAL 3302
कोरोना वायरसः विज्ञान की राह पर धर्म
नई दिल्‍ली, 5 अप्रैल 2020, (आरएनआई )। धर्म: विपत्ति पर भारी आस्था संकट के समय तिनके का सहारा भी मिल जाए तो बहुत है। बड़ी आबादी कोरोना संकट से बचाव में खुद को असहाय पा रही है। विपरीत परिस्थितियों में अरबों लोगों के लिए धर्म संबल का काम करता है। छोटे समय के लिए ही सही इस भय ने लोगों को वैश्विक स्तर पर धर्म और पारंपरिक रीति-रिवाजों की ओर खींचा है। हालांकि जो आत्मा के लिए अच्छा है वो हमेशा शरीर के लिए अच्छा नहीं हो सकता।

धर्म में आस्था रखने वाले लोगों को एकत्रित होने को रोककर वायरस से मुकाबला करने की बात कही जा रही है। कई धर्मों में धार्मिक जनसमूह मुख्य सिद्धांत के रूप में शामिल है। कुछ मामलों में धार्मिक उत्साह लोगों को ऐसे इलाज की ओर ले गया, जिसका वैज्ञानिक आधार नहीं है।

धार्मिक गुरुओं की सलाह ने आस्तिकों की ऊर्जा को पुननिर्देशित किया है। इजरायल के प्रमुख एश्केनाजी रब्बी डेविड लाउ ने यहूदियों से रोजाना 100 आशीर्वाद कहने का आह्वान किया है। वहीं मिस्न के एक पोप टवाड्रस द्वितीय ने इसे पश्चाताप जगाने वाली घंटी बताया। एक धर्मोपदेश ने कहा कि यह सामंजस्य का समय है।

धार्मिक गुरु जैसे-जैसे धार्मिक प्रथाओं को प्रतिबंधित करने के लिए बढ़े हैं, वैसे-वैसे इन प्रथाओं का आश्रय बहुत तेजी से बढ़ा है। 31 साल के मिस्न के फार्मासिस्ट अहमद शाबान ने पैगंबर मुहम्मद के जन्मस्थान और मकबरे की तीर्थयात्रा करने के लिए इसी महीने सऊदी अरब की यात्रा की। सऊदी सरकार ने मक्का और मदीना के सभी पवित्र स्थलों को श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया है। इस कठिनाई, भय या संकट के समय में शाबान का कहना है कि या तो आप सोचते हैं कि ईश्वर हमारे लिए यह कैसे कर सकता है? या फिर आप उनसे सुरक्षा या मार्गदर्शन के लिए कहते हैं।

कई आस्थाएं नई वास्तविकता को अपना रही है। पूजा के घर बंद या खाली हैं। व्यक्तिगत बोतलों से पवित्र पानी का छिड़काव किया जा रहा है। मध्य पूर्व में शुक्रवार की प्रार्थना रद कर दी गई है। वेस्ट बैंक और कुवैत में मुअज्जिनों ने मस्जिदों में आस्था रखने वालों को अपने घरों में रहकर ही प्रार्थना करने के लिए कहा है। वहीं इटली में भीड़ रहित पांच छह सप्ताह हो चुके हैं। लेकिन पलेर्मो की सेंट रोजालिया पहाड़ी अभयारण्य खुला रहता है। ऐसे में हम आस्था को लेकर के कई बार पूर्वाग्रहों से भी भरे नजर आते हैं।

न्यूयॉर्क में प्रतिबंधों के बावजूद हैसिडिक यहूदी समुदायों में कई शादियां हुई हैं। जिसके बाद वायरस पुष्टि के मामलों में बढ़ोतरी की सूचना मिली है। वहीं ईरान में पवित्र स्थल कई सप्ताह तक भीड़ के लिए खुले रहे। यह मानते हुए कि कोरोना वायरस ने देश को छोड़ दिया है। स्थिति बिगड़ी तो सख्त कदम उठाए गए।

कोरोना वायरस को लेकर बढ़ती चिंता के बीच दुनिया में कई बदलाव हुए हैं। भीड़ भरे स्थानों पर जाने से लोग बच रहे हैं। बहुत से लोगों ने अपनी यात्राओं को स्थगित कर दिया है और बड़े लॉकडाउन के दौरान घरों में कैद है। इन असामान्य परिस्थितियों में धार्मिक क्रियाकलाप भी प्रभावित हुए हैं। मंदिर हो, मस्जिद हो या फिर चर्च या अन्य धार्मिक स्थल सभी अपने स्तर पर विज्ञान के बताए रास्ते पर वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जुटे हैं।

इटली में पोप फ्रांंसिस ने पादरियों से घरों के बाहर आने और बीमार लोगों के पास जाने के लिए कहा है। साथ ही उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों और स्वयंसेवकों का साथ देने के लिए कहा है। हालांकि उन्हें अन्य लोगों से कम से कम एक मीटर की दूरी रखने और शारीरिक संपर्क से बचने जैसी सावधानियां रखने की सलाह दी है। इसके साथ ही पोप ने वेटिकन में भीड़ को कम करने के लिए अपने पारंपरिक रविवार के संदेश को लाइव -स्ट्रीम करना शुरू किया है। घाना से लेकर अमेरिका और यूरोप के कैथोलिक चर्चों ने संक्रमण को रोकने के प्रयास में भीड़ को एकत्रित होने से रोकने की कोशिश की है। संक्रमण बढ़ाने वाली कई परंपराओं को फिलहाल के लिए रोक दिया गया है। वहीं ग्रीक ऑर्थोडॉक्स चर्च ने अपनी परंपराओं को नहीं बदला है। उनका तर्क है कि चर्च के सदस्यों के लिए पवित्र यूचरिस्ट में भाग लेना बीमारी के संचरण का कारण नहीं हो सकता है।

मक्का की पवित्र मस्जिद में आमतौर पर हजारों की संख्या में श्रद्धालु होते हैं। हालांकि महामारी के कारण इसे अब बंद कर दिया गया है। वहीं मस्जिद में नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी गई है। मदीना में भी सऊदी सरकार ने ऐसे ही उपाय किए हैं। वहीं मोरक्को से इंडोनेशिया तक दुनिया के कई देशों ने भी लोगों को एकत्रित न होने देने के लिए मस्जिदों में नमाज पर रोक लगा दी है और लोगों को घरों में रहने के आदेश दिए गए हैं। हालांकि पाकिस्तान जैसे देशों में लगातार बढ़ते आंकड़ों के बावजूद भी ज्यादा सख्त कदम नहीं उठाए गए हैं।

इजरायल के मुख्य रब्बी डेविड लाउ ने लोगों को सलाह देते हुए एक बयान जारी किया है। जिसमें उन्होंने लोगों को छूने या फिर धार्मिक प्रतीक मेजुजा का चुंबन नहीं लेने की बात कही गई है। यूरोपियन रब्बियों के सम्मेलन में भी लोगों को ऐसी ही सलाह दी गई।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की है। इसके बाद भारत के लगभग सभी बड़े मंदिरों को बंद कर दिया गया है। वैष्णोदेवी, उज्जैन महाकाल मंदिर सहित सभी मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद किए गए हैं। वहीं इस महामारी से लड़ने के लिए कई मंदिरों की ओर से पीएम केयर फंड में लाखों रुपये दिए गए हैं। साथ ही जरूरतमंदों की मदद के लिए भी कई हिंदू संगठन आगे आए हैं। हिंदू संस्कृति के नमस्कार को भी वैश्विक स्तर पर मान्यता मिली है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अभिवादन के परंपरागत ढंग के बजाय हिंदू संस्कृति से जुड़े नमस्कार करते देखे गए हैं। सनातन धर्म के इतिहास में जिन मंदिरों के कपाट बंद होने का कहीं उल्लेख नहीं मिलता है, उन्हें भी कोरोना वायरस से बचाव के चलते बंद कर दिया गया हैं।










Related News

International

भारी विरोध के बीच चीन की संसद ने विवादित हांगकांग सुरक्षा विधेयक पारित किया
Root News of India 2020-05-28 14:26:45
बीजिंग, 28 मई 2020, (आरएनआई)। चीन की संसद ने बृहस्पतिवार को हांगकांग के लिए एक नए विवादास्पद सुरक्षा कानून को मंजूरी दे दी जिससे पूर्व ब्रिटिश कॉलोनी में बीजिंग के अधिकार को कमजोर करना एक अपराध हो जाएगा.
चीन के प्रस्तावित सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के खिलाफ हांगकांग में विरोध प्रदर्शन
Root News of India 2020-05-24 15:39:50
हांगकांग, 24 मई 2020, (आरएनआई)। चीन द्वारा प्रस्तावित विवादित राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लेकर हांगकांग में विरोध प्रदर्शन लगातार बढ़ रहे हैं। वहीं चीन भी इन प्रदर्शनों की दबाने की पूरी कोशिश कर रहा है। रविवार को भी चीन के इस विवादित कानून के खिलाफ हांगकांग में सड़कों पर उतरे सैकड़ों लोगों पर स्थानीय पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे।   
पत्रकार जमाल ख़शोगी के बेटों ने पिता के हत्यारों को किया माफ
Root News of India 2020-05-24 08:00:25
दुबई, 24 मई 2020, (आरएनआई)। वॉशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार रहे पत्रकार जमाल ख़शोगी के बेटों ने शुक्रवार को घोषणा की कि उन्होंने अपने पिता के हत्यारों को माफ कर दिया है, जिससे सऊदी अरब के पांच सरकारी एजेंटों की मौत की सजा पर रोक लग गई है.
भूकंप के झटकों से हिला नेपाल
Root News of India 2020-05-21 09:11:25
काठमांडू, 21 मई 2020, (आरएनआई)। नेपाल के भक्तपुर जिले के अनंतलिंगेश्वर के आसपास गुरुवार सुबह 8.14 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर इस भूकंप की तीव्रता 3.4 मापी गई। नेपाल के राष्ट्रीय भूकंप केंद्र ने इस बात की जानकारी दी है। 
लॉकडाउन के दौरान दुनियाभर में कार्बन उत्सर्जन में आई गिरावट
Root News of India 2020-05-21 08:01:36
केंसिंग्टन, 21 मई 2020, (आरएनआई)। कोरोना वायरस वैश्विक महामारी को फैलने से रोकने के लिए दुनियाभर में लगाए लॉकडाउन के कारण पिछले महीने दुनियाभर में कार्बन डाइऑक्साइड के रोजाना होने वाले उत्सर्जन में 17 प्रतिशत तक की कमी आई है। एक नए अध्ययन में यह जानकारी दी गई है।
मंदी, बेरोजगारी और संरक्षणवाद सबसे बड़ा संकट: डब्ल्यूईएफ
Root News of India 2020-05-21 08:01:25
जिनेवा, 21 मई 2020, (आरएनआई)। कोरोना महामारी का दौर खत्म होने के बाद दुनियाभर मेें मंदी, बेरोजगारी और संरक्षणवाद की चिंताएं बढ़ेंगी और नई संक्रमण बीमारियां पैदा होने का भी जोखिम रहेगा। विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) ने मंगलवार को बताया कि कंपनियों के लिए फिलहाल ये सबसे बड़ी समस्याएं होंगी।
डब्ल्यूएचओ की चेतावनी खुले में कीटाणुनाशक के छिड़काव से हो सकता है स्वास्थ्य का खतरा
Root News of India 2020-05-19 09:34:23
जिनेवा, 19 मई 2020, (आरएनआई)। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी दी है कि खुले में कीटाणुनाशक (डिसइन्फेक्टेंट) छिड़कने से कोरोना वायरस नहीं मरता है। ऐसा करना लोगों के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है। डब्ल्यूएचओ का कहना है कि गलियों और बाजारों में डिसइन्फेक्टेंट स्प्रे या फ्यूमिगेशन करने से इसलिए फायदा नहीं होता है क्योंकि धूल और गंदगी की वजह से वह निष्क्रिय हो जाते हैं।
भारत की मदद के लिए विश्व बैंक ने खोली तिजोरी
Root News of India 2020-05-15 13:25:35
नई दिल्ली, 15 मई 2020, (आरएनआई)। कोरोना संकट में भारत की सहायता के लिए विश्व बैंक ने अपनी तिजोरी खोल दी है. उसने भारत को एक बार फिर एक अरब डॉलर यानी करीब 7500 करोड़ रुपये की सहायता देने को मंजूरी दी है. कोरोना संकेट के बीच विश्व बैंक की ओर से भारत को दी जाने वाली सहायता की यह दूसरी किश्त है. पिछले महीने भारत के स्वास्थ्य क्षेत्र की मदद के लिए एक अरब अमेरिकी डालर यानी 7500 करोड़ रुपये की सहायता देने की घोषणा की गई थी.
कोरोना से बाल अधिकारों पर संकट: यूनिसेफ
Root News of India 2020-05-14 10:00:35
संयुक्त राष्ट्र, 14 मई 2020, (आरएनआई)। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की बाल एजेंसी ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगले छह महीने में अतिरिक्त छह हजार बच्चों की रोजाना मौत ठीक होने वाली बीमारियों की वजह से हो सकती है। ऐसा कोरोना वायरस महामारी की वजह से कमजोर हुई स्वास्थ्य प्रणाली और नियमित सेवाएं बाधित होने के कारण है।
कोरोना महामारी पर कब तक नियंत्रण पाया जा सकेगा यह अनुमान लगाना असंभव: डब्ल्यूएचओ
Root News of India 2020-05-14 10:00:30
जिनेवा, 14 मई 2020, (आरएनआई)। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आपात परिस्थिति संबंधी प्रमुख ने कहा है कि यह अनुमान लगाना असंभव है कि वैश्विक महामारी पर कब तक नियंत्रण पाया जा सकेगा। डॉ. माइकल रयान ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘संभवत: यह वायरस कभी न जाए।’ उन्होंने कहा कि कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या अभी तक कम है।
डब्लूएचओ ने चेताया...तीन सवालों का जवाब खोजकर ही खोलें लॉकडाउन
Root News of India 2020-05-14 10:00:24
जिनेवा, 14 मई 2020, (आरएनआई)। कोरोना महामारी से निपटने के लिए जारी लॉकडाउन के चलते दुनियाभर की अर्थव्यवस्था गर्त में जा चुकी है। ऐसे में इस त्रासदी से जूझ रहे कई देशों ने अर्थव्यवस्था पटरी पर लाने के लिए लॉकडाउन में ढील देनी शुरू की है।
WHO को आशंका, शायद कभी खत्म न हो कोरोना वायरस का खतरा
Root News of India 2020-05-14 09:06:28
जिनेवा, 14 मई 2020, (आरएनआई)। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आशंका जाहिर की है कि कोरोना वायरस से जुड़ी बीमारी ऐसी हो सकती है जो कभी खत्म न हो. WHO ने कहा है कि हो सकता है कि कोरोना वायरस समुदायों के बीच बना रहे जिसका भविष्य में कभी खात्मा न हो.
चीन में दफ्तर खुले, सख्त नियमों में बंधे कर्मचारी
Root News of India 2020-05-14 09:06:23
बीजिंग, 14 मई 2020, (आरएनआई)। चीन में लॉकडाउन खुल गया है, लेकिन कर्मचारियों को नए नियमों के दायरे में जीना पड़ रहा है। कहीं दिन में तीन बार तापमान मापना जरूरी है, तो दस्तावेजों को छूने से पहले और बाद में साबुन से हाथ धोना अनिवार्य है। कई कंपनियों ने सार्वजनिक परिवहन के इस्तेमाल से भी मना कर दिया है। कैब चालकों को गाड़ी सैनिटाइज करते वक्त वीडियो बनाकर भेजना होता है, तो रेस्तरां कर्मचारियों को बाहर नहीं जाने देते। गिने-चुने कर्मचारी ही आ रहे हैं और बाकी को घर से काम करने को कहा गया है। इससे भी बढ़कर सरकारी हैल्थ एप्लीकेशनों पर कर्मचारियों की आवाजाही ट्रैक की जा रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के बाद चीन में जनजीवन देखकर अंदाजा लगा सकते हैं कि जब अन्य देशों के लोग काम पर लौटेंगे, तो दुनिया पहले जैसी नहीं रहने वाली है।
पाकिस्तान की सरकारी मीडिया ने जम्मू-कश्मीर के मौसम का पूर्वानुमान देना शुरू किया
Root News of India 2020-05-10 20:25:41
इस्लामाबाद, 10 मई 2020, (आरएनआई)। पाकिस्तान की सरकारी मीडिया ने रविवार को जम्मू-कश्मीर के मौसम की विस्तृत जानकारी देने की शुरुआत की। यह कदम भारत द्वारा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के मौसम का पूर्वानुमान जारी करने की शुरुआत के कुछ दिन बाद उठाया गया है। सरकारी रेडियो पाकिस्तान ने रविवार को बताया कि जम्मू-कश्मीर के अधिकतर हिस्सों में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे और बारिश की संभावना है। इसके साथ ही श्रीनगर, पुलवामा, जम्मू और लद्दाख के अधिकतम और न्यूनतम तापमान की भी जानकारी दी गई है। उल्लेखनीय है कि रेडियो पाकिस्तान कश्मीर की खबरों को विशेष स्थान देता है और उसकी वेबसाइट जम्मू-कश्मीर की खबरों को समर्पित है। सरकारी पाकिस्तान टेलीविजन भी जम्मू-कश्मीर की खबरों को लेकर विशेष बुलेटिन प्रसारित करता है। माना जा रहा है कि भारतीय मीडिया में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मौसम की जानकारी देने के बाद पाकिस्तानी मीडिया में कश्मीर को लेकर और अधिक खबरें प्रसारित की जाएगी। पाकिस्तान ने शुक्रवार को भारत द्वारा मीरपुर, मुजफ्फराबाद और गिलगित-बाल्टिस्तान के मौसम की जानकारी देने के कदम को खारिज करते हुए कहा कि इसकी कोई कानूनी मान्यता नहीं है और यह क्षेत्र की स्थिति बदलने की कोशिश है। पाकिस्तान के विदेश विभाग ने अपने बयान में कहा कि पिछले साल भारत द्वारा जारी ‘राजनीतिक मानचित्र’ की तरह इस कदम की भी कोई कानूनी मान्यता नहीं है और यह वास्तविकता के विपरीत और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के संबंधित प्रस्ताव का उल्लंघन है। गौरतलब है कि भारत ने पिछले साल नवंबर में नया मानचित्र जारी किया था जिसमें पाकिस्तान के कब्जे वाली कश्मीर घाटी को नवगठित जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश का हिस्सा जबकि गिलगित-बाल्टिस्तान को केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के हिस्से के तौर पर दिखाया गया है।
भारत को जुलाई में मिलेगी कोरोना वायरस से राहत : डब्ल्यूएचओ
Root News of India 2020-05-09 12:06:09
नई दिल्‍ली, 9 मई 2020, (आरएनआई)। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के खास दूत डॉक्‍टर डेविड नबारो का कहना है कि देश में कोरोना वायरस महामारी का ग्राफ नीचे आने को है। साथ ही उन्‍होंने कहा कि जुलाई में खत्‍म होने से पहले महामारी देश में अपने सर्वोच्‍चतम स्‍तर पर होगी।
भारतीय मौसम विभाग की रिपोर्ट में पीओके का हाल देख चिढ़ा पाकिस्तान
Root News of India 2020-05-09 08:51:15
नई दिल्ली/इस्लामाबाद, 9 मई 2020, (आरएनआई)। भारतीय मौसम विभाग ने अपने मौसम के हाल (वेदर बुलेटिन) में पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) के इलाकों को शामिल किया. शुक्रवार को आईएमडी ने गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद के मौसम का हाल बताया. भारतीय मौसम विभाग ने अपने इस बुलेटिन में जम्‍मू-कश्‍मीर सब-डिविजन को अब ‘जम्‍मू और कश्‍मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्‍तान और मुजफ्फराबाद’ कहना शुरू कर दिया है. इस कदम के बाद सोशल मीडिया पर जहां भारतीय यूजर्स इसकी तारीफ कर रहे हैं, वहीं पाकिस्तान ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है.
गरीब देशों के लिए 6.7 अरब डॉलर जरूरी वरना दंगे और भूख से होंगी मौतें : संयुक्त राष्ट्र
Root News of India 2020-05-09 08:51:08
संयुक्त राष्ट्र, 9 मई 2020, (आरएनआई)। कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में संयुक्त राष्ट्र ने कमजोर देशों के भीतर जरूरी चीजों के लिए सरकारों, कंपनियों और अरबपतियों से 6.7 अरब डॉलर की निधि का दान करने की अपील की है। एजेंसी ने आगाह किया है कि यदि इस मदद में नाकाम रहे तो भुखमरी की वैश्विक महामारी फैलेगी और अकाल, दंगे व अधिक संघर्ष का दुनिया को सामना करना पड़ सकता है।
इमरान खान बोले-पाकिस्‍तान के खिलाफ झूठा अभियान चला रहा है भारत
Root News of India 2020-05-07 10:09:10
इस्‍लामाबाद, 7 मई 2020, (आरएनआई)। भारत और पाकिस्‍तान के बीच पिछले कुछ दिनों में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर तनाव फिर से बढ़ गया है। भारत ने पाकिस्‍तान पर आरोप लगाया है कि वह कश्‍मीर में अशांति को भड़का रहा है। इसके बाद पाक पीएम इमरान खान ने कहा है कि भारत वर्तमान परिस्थितियों को फायदा उठाते हुए उनके देश के खिलाफ झूठा अभियान लॉन्‍च कर सकता है। खान के इस दावे के बाद दोनों तरफ से ट्विटर पर यूजर्स के बीच काफी बहस भी हुई।
कोरोनावायरस महामारी ने बढ़ाई करोड़ों बेघर बच्चों की तकलीफ, UN ने की मदद की अपील
Root News of India 2020-05-07 10:08:58
संयुक्त राष्ट्र, 7 मई 2020, (आरएनआई)। संयुक्त राष्ट्र के बाल कोष की जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, साल 2019 के अंत तक दुनिया में लगभग 4 करोड़ 57 लाख लोग सशस्त्र संघर्ष और हिंसा से बेघर हो चुके हैं. इनमें 1.9 करोड़ बच्चे शामिल हैं.
डोनाल्ड ट्रंप बोले- कोरोना का टीका बना लेगा अमेरिका
Root News of India 2020-05-04 11:12:54
वाशिंगटन, 4 मई 2020, (आरएनआई)। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि अमेरिका इस साल के आखिर में कोरोना वायरस का टीका बना लेगा। उन्होंने कहा, 'हमें पूरा विश्वास है कि हम साल के आखिर तक कोरोना वायरस का टीका बना लेंगे।'

Top Stories

Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?
Positive SSL