HIGHLIGHTS

चीन ने कारोबार के लिए नेपाल को जमीन और बंदरगाह इस्तेमाल करने की दी अनुमति

Root News of India 2018-09-08 07:07:03    INTERNATIONAL 1863
चीन ने कारोबार के लिए नेपाल को जमीन और बंदरगाह इस्तेमाल करने की दी अनुमति
काठमांडू, 8 सितंबर (आरएनआई) I भारत के पड़ोसी देशों में चीन का प्रभाव तेजी से बढ़ रहा है। भारी भरकम कर्ज बांटने के साथ ही चीन अब अपने संसाधनों का इस्तेमाल करने की नई चाल चल रहा है। इसी क्रम में चीन ने नेपाल को अपने चार बंदरगाहों और तीन लैंड पोर्टों का इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी। चीन का यह कदम काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे अंतरराष्ट्रीय वाणिज्य के लिए जमीन से घिरे नेपाल की भारत पर निर्भरता कम हो जाएगी।

नेपाल अब चीन के शेनजेन, लियानयुगांग, झाजियांग और तियानजिन सीपोर्ट का इस्तेमाल कर सकेगा। तियानजिन बंदरगाह नेपाल की सीमा से सबसे नजदीक बंदरगाह है, जो करीब 3,000 किमी दूर है। इसी प्रकार चीन ने लंझाऊ, ल्हासा और शीगाट्स लैंड पोर्टों (ड्राई पोर्ट्स) के इस्तेमाल करने की भी अनुमति नेपाल को दे दी।

अंतरराष्ट्रीय व्यापार के लिए ये नेपाल के लिए वैकल्पिक मार्ग मुहैया कराएंगे। नई व्यवस्था के तहत चीनी अधिकारी तिब्बत में शिगाट्स के रास्ते नेपाल सामान लेकर जा रहे ट्रकों और कंटेनरों को परमिट देंगे। इस डील ने नेपाल के लिए कारोबार के नए दरवाजे खोल दिए हैं, जो अब तक भारतीय बंदरगाहों पर पूरी तरह निर्भर था।

नेपाल के इंडस्ट्री और कॉमर्स मिनिस्ट्री में संयुक्त सचिव रवि शंकर सैंजू ने कहा कि तीसरे देश के साथ कारोबार के लिए नेपाली कारोबारियों को सीपोर्टों तक पहुंचने के लिए रेल या रोड किसी भी मार्ग का इस्तेमाल करने की अनुमति होगी।

ट्रांजिट ऐंड ट्रांसपॉर्ट अग्रीमेंट (TTA) से संबंधित हुई वार्ता के दौरान रवि शंकर ने ही नेपाली प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया था। मीटिंग के दौरान दोनों पक्षों ने छह चेकपॉइंट्स से चीनी सरजमीं पर पहुंचने का रास्ता तय किया है। इस अग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किए गए। चीन के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की मार्च 2016 में चीन यात्रा के दौरान ही इस अग्रीमेंट पर सहमति बनी थी।

Related News

International

Top Stories


Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?