HIGHLIGHTS

पठकाना रामलीला मेला का शुभारम्भ

Ram Prakash Rathore 2018-10-06 14:17:32    MEDITATION 4869
पठकाना रामलीला मेला का शुभारम्भ
शाहाबाद (हरदोई), 6 अक्टूबर (आरएनआई)। ऐतिहासिक श्री रामलीला मेला पठकाना के 81 वें शुभारंभ से पूर्व सर्वप्रथम परंपरागत रूप से स्थानीय नर्मदा आश्रम के ब्रह्मलीन स्वामी जी की आरती पूजा की गई।तदुपरांत समिति के कार्यकारी अध्यक्ष डॉक्टर मुरारी लाल गुप्ता एवँ नवागत कोतवाल दीनानाथ मिश्रा द्वारा हनुमान जी एवं गणेश जी की प्रतिमा पर द्वीप प्रज्वलित कर आरती पूजन करके किया गया।शुभारंभ कार्यक्रम में समिति के संरक्षक सुरेंद्र नाथ मिश्रा हरीनाथ त्रिपाठी,विशिष्ठ उपाध्यक्ष गोपाल त्रिपाठी,राजेंद्र प्रसाद मिश्रा,श्रीमती कमलेश वर्मा,महामंत्री अनुराग मिश्रा,मंत्री ऋषि कुमार मिश्रा,आशीष मोहन तिवारी (राजू) एवँ कोषाध्यक्ष मनोविनोद अवस्थी एवं निरीक्षक/ लेखा परीक्षक शैलेंद्र कुमार मिश्रा,मीडियाप्रभारी ओमदेव दीक्षित एवँ पूर्व ब्लॉक प्रमुख रामनाथ त्रिपाठी,डॉ0 दीपक मिश्रा आदि ने आरती पूजन में भाग लिया।इससे पूर्व उपरोक्त सभी सम्मानित व्यक्तियों का स्वागत एवँ माल्यार्पण समिति के सहयोगी एवं स्नेही जनों द्वारा किया गया।पूजा-पाठ आरती रस्म अदायगी के उपरांत रामलीला का पहला नाटक ब्रह्मा जन्म नारद मोह जिला मधुबनी बिहार की पार्टी श्री बजरंग विजय आदर्श रामलीला एवं नाट्य कला परिषद भरवरैन द्वारा मंचित किया गया जिसमें दर्शको की भारी भीड़ एकत्रित हुई बच्चों एवं महिलाओं की संख्या सर्वाधिक रही।इस अवसर पर जामा मस्जिद चौकी प्रभारी संजय कुमार राय एवं सरदार गंज पुलिस चौकी प्रभारी सुब्रत तिवारी सहित आरक्षी कुंदन बिष्ट,नीतिश शुक्ला आदि सतर्कता से अपनी ड्यूटी में तल्लीन रहे।

Related News

Meditation

  • अंतिम दिन भी पूजा पंडाल में उमड़ी भारी भीड़
    Rama Shanker Prasad 2018-10-19 18:47:08
    आरा, 19 अक्टूबर (आरएनआई)। अधर्म पर धर्म की विजय का त्योहार दशहरा पूरे जिले में हर्षोल्लास के वातावरण में मनाया जा रहा है। दशमी को पूजा पंडालों में माँ दुर्गा के दर्शन को भारी भीड उमड़ पड़ी। हर कोई माता का आशीर्वाद पाने को लालायित नजर आ रहे हैं. पूजा पंडालों के समीप पूजा समितियां श्रद्धालुओं के सुविधा में कोई कोरकसर नहीं छोड़ रखी हैं. पंडालों की आर्कषक सजावट और माता दुर्गा की भव्य प्रतिमाएं हर श्रद्धालुओं को अपनी ओर लुभा रही हैं. मां भगवती को लेकर महिलाओं की विशेष आस्था देखते ही बन रही है. शहर का पूरा वातावरण भक्तिमय नजर आ रहा है. सड़कों पर नन्हे बच्चों का उत्साह पूरे परवान पर नजर आ रहा है. जब बच्चे त्योहार की खुशियां लूटने मे कोई कसर नहीं छोड़ रहे तो भला युवा कैसे पीछे रहते? युवाओं की टोली पूरे त्योहार का भरपुर लुत्फ उठाती नजर आ रही है तथा लोगों ने जमकर जलेबी, छोले खाया, साथ मे बच्चे खिलौने की खरीदारी करतेे देेेखे गए। पुलिस प्रशासन की ओर से की गई पुख्ता सुरक्षा एवं ट्रैफिक बंदोबस्त ने पूरे त्योहार को खुशगवार बना दिया है. शहर के अलावा जिले के ग्रामीण क्षेत्रों का इलाका भी दुर्गापूजा का गवाह बना. लोगों ने दशहरा के मौके पर श्रद्धा प्रदर्शित की एवं जश्न मनाया. भक्तों ने मां दुर्गा को नमन कर सर्वशांति एवं जन कल्याण का आशीर्वाद मांगा।
  • DUSSEHARA CELEBRATED WITH RELIGIOUS ENTHUSIASM
    RAJIV NAYAN AGRAWAL 2018-10-19 16:56:11
    Ara, October 19 (RNI) : Dussehara was celebrated with great religious fervour and pomp amidst tight security arrangements in Bhojpur district. Tastefully decorated and massive pandals with series bulbs, festoons and coloured tubes, resembling magnificent temples and palatial structures, beautiful statues of Goddess Durga and her progenies, symbol of victory of truth over evil, chanting of Vedic mantras high-powered illumination marked the celebration. Ara was virtually turned into a fairyland. Add to all these, the mad rush of devotees to the pandals added to the glamour. Villagers were pouring in in large numbers to have a glance of the idols. Women with heavy facial make-up and babes in their laps particularly from rural areas, men and children flocked various puja sites to have a look of the Goddess Durga and offered prayers. With all roads leading to puja pandalas, Durga puja celebration has reached its crescendo on Nawami and Dashami. This also marked the end of Puja celebration.
  • लंकेश का पुतला दहन सावधान जीव श्री राम सब देख रहे हैं
    Anand Mohan Pandey 2018-10-19 12:03:16
    शाहजहांपुर, 19 अक्टूबर (आरएनआई)। प्रतिवर्ष दशहरा पर्व के अवसर पर भगवान राम के द्वारा स्थापित आदर्शों एकता एवं तमाम विसंगतियों के उन्मूलन को दोहराया जाता है और अंत में रावण नामक विकृति के पुतले का दहन किए जाने की परंपरा प्राचीन समय से चली आ रही है किंतु ध्यान देने वाली बात है कि हम न तो भगवान राम के आदर्शों को आत्मसात कर रहे हैं और ना ही रावण नामक विकृतियों से मुक्त हो पा रहे हैं पर्व समाप्त होते ही हम अपने मूल आयाम में लौट आते हैं और तमाम तरह की आसुरी विकृतियों को गले लगा कर अपने अंदर के रावण को जीवनदान दे बैठते हैं तथा रावण की वृत्तियों को ढोने लग जाते हैं हमें ज्ञात है कि रावण अवगुणों और सत के विरुद्ध विकृतियों का संग्रहालय है अतः इनसे सचेत रहना हमारी चेतना का कर्तव्य है किंतु अधिकतर व्यक्ति लंकेश मई व्यक्तियों के रसास्वादन करने में मस्त है वह समझ रहा है उसके अमृत कलश को किसी ने नहीं पहचाना और इसी भ्रम में वह लंकेशमयी कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है उसे नहीं मालूम कि राम मई प्रकृति उस पर बराबर नजर रखे हुए हैं भगवान राम ने जिन विसंगतियों का अंत करने के लिए 14 वर्ष तक भाई लक्ष्मण और माता सीता सहित कर्म रूपी यज्ञ किए जिनमें तमाम तरह की कठिनाइयों का सामना किया और उनका अंत किया वर्तमान समय में हम उनके आदर्शों को आत्मसात करने में बहुत निर्बल हैं और इसीलिए लंकेश के कृत्य हम पर हावी हो रहे हैं भगवान राम ने मनुष्य रूप में जिन मूल्यों की स्थापना करने अखंड सुगंधित तथा विसंगतियों से रहित धरा हमें सौंपी हम अपने अहम और अमरता के भ्रम में उसे लंकेशमई बनाने पर उतारू हैं आदर्शों का केवल भ्रम जाल बन रहे हैं लंकेश को अंतर्मन में स्थान देकर केवल उसके पुतले फूंक रहे हैं यही कारण है की लंकेश अंतर्मन में अट्ठहास करते हुए कहता है मुझे क्यों साथ लेकर जा रहे हो सावधान जीव श्री राम सब देख रहे हैं
  • महिषासुर वध मंचन व विसर्जन यात्रा के साथ हुआ दुर्गा पंडाल का समापन।
    Ram Prakash Rathore 2018-10-19 10:15:26
    शाहाबाद (हरदोई), 19 अक्टूबर (आरएनआई)। मो. दिलेरगंज में आयोजित नवदुर्गा पंडाल में नवें दिन रात्रि 8 बजे श्री बाला जी धरम रसिया म्यूजिकल ग्रुप द्वारा सुंदर कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। शिव तांडव नृत्य , बृज की होली कार्यक्रम दर्शकों द्वारा काफी सराहा गया। महिषासुर वध में ग्रुप के मुख्य कलाकार रमेश सैनी ने महिषासुर का व सलोनी ने माँ काली का अभिनय कर दर्शको की बहुत देर तक तालियां बटोरी। समिति के द्वारा कार्यकर्ताओं को पुरस्कृत भी किया गया।कार्यक्रम के अंत मे व्यवस्थापक दीपक गुप्ता ने विदाई गीत नौ रात नौ दिन माई दशम दिन विदाई प्रस्तुत कर अधिकांश लोगों को रुला दिया। दशमी को प्रातः विसर्जन यात्रा का आयोजन किया जिसमें पंडाल में स्थापित सभी विग्रह भारी धूमधाम गाजे बाजे के साथ अबीर गुलाल उड़ाते हुये पिपरिया घाट जाकर विसर्जित कर दिए गए। विसर्जन यात्रा के साथ क्षेत्राधिकारी व थाना प्रभारी ने भारी पुलिस बल के साथ मौजूद रहकर विसर्जन की उत्तम व्यवस्था कराई। समिति के सरंक्षक.संजय मिश्रा ने थाना प्रभारी को सम्मानित कर समस्त पुलिस स्टाफ का आभार प्रगट किया।
  • PEOPLE THRONGED TEMPLES ON MAHANAVAMI
    RAJIV NAYAN AGRAWAL 2018-10-18 12:15:34
    Ara, October 18 (RNI) : In a narrow lane near Aranaya Devi is the two storey house where people queued up from 3.3.am on the ninth day of Sharadiya Navaratra on Thursday to have a glimpse of Maa Aranaya Devi.
  • नवरात्र में नवमी पूजन और हवन किया गया
    Rama Shanker Prasad 2018-10-18 11:03:17
    आरा, 18 अक्टूबर (आरएनआई)। आज नवरात्र की नवमी तिथि है। नवमी तिथि के दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। माता सिद्धिदात्री सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाली माता हैं इनमें माता के सभी रूप सामहित होते हैं जो नवरात्र के नौ दिनों की पूजा का फल अपने भक्तों को प्रदान करती हैं। इसलिए नवमी तिथि को पूजा की पूर्णाहुति यानी पूजा का अंतिम निवेदन और भेंट हवन के रूप में किया जाता है। नवमी के दिन की पूजा में माता की पंचोपचार विधि से पाद्य, आर्घ्य, आचमन, स्नान, फूल, अक्षत, चंदन, सिंदूर,फल, मिठाई से पूजा की जाती है। माता के साथ उनके गणों, योगिनियों, गणेश, इद्र दसदिक्पाल नवग्रहों, ग्राम देवता, नगर देवता, कुलदेवी और देवता सहित लक्ष्मी, सरस्वती और भगवान शिव की पूजा की जाती है। माता की पूजा आरती के बाद हवन के साथ पान, सुपारी, नारियल और कुछ पैसे लेकर पूर्णाहुति दी जाती है। हवन में धूमन की लकड़ी, अक्षत, तिल, घी, बेलपत्र, गुग्गुल, सुगंधित पदार्थ, किसमिस, छुहारा, नारियल, जौ, मखाना, मूंगफली, शहद सबकुछ मिलाकर हवन सामग्री बना लिया जाता है इसके बाद हवन कुंड मे हवन करते हैं। हवन करते समय सबसे पहले गंगाजल से सभी सामग्रियों को पवित्र किया जाता है। इसके बाद हवनकुंड में आम की सूखी लकड़ियां रखें फिर रूई में घी लगाकर लकड़ी के ऊपर रखकर कपूर जलाकर हवनकुंड की ज्वाला प्रज्जवलित किया गया। इसके बाद बाद घी से ‘ऊं ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डयै विच्चै नमः’ मंत्र से माता के नाम से आहुति दें फिर सभी देवी-देवताओं से नाम से 3 या 5 बार आहुति दिया गया। हवन के बाद आरती किया गया।  सभी मंत्रों के साथ स्वाह बोलते हुए हवन किया गया।
  • PEOPLE THRONGED PUJA PANDALS, DISTRICT ADMINISTRATION BANNED PLAYING OF DJ AT HIGH PITCH
    RAJIV NAYAN AGRAWAL 2018-10-17 15:54:48
    Ara, October 17 (RNI) : Thousands of devotees thronged the Puja pandals in Ara seeking blessings of Maha Gauri, the eight form of Goddess Durga on the Mahaashtami day of Navaratra on Wednesday.
  • সুন্দরবনের চুনাখালী পূজা মন্ডপের অন্য রূপ এনে দিলো এলাকাবাসী।
    Root News of India 2018-10-17 14:40:58
    ক্যানিং (সাউথ ২4 পরগনা)। পূজা মানে এখন থিমের লড়াই। আর শহরের পূজা মানে তো আর কিছু বলার নেই। যেখানে কেউ মাকে সোনার শাড়ি দিয়ে ঢেকে রেখেছে আবার কেউ বা রূপোর রথে মাকে বসিয়েছে।শহরের মানুষ জন এই পূজা টা কে একটা অন্য মাত্রা এনে দিচ্ছে। যেখানে টাকা আর অহঙ্কারত্তের মধ্যে মাকে ভাগ হতে হচ্ছে। ঠিক তার উল্টো রূপ দেখা গেল সুন্দরবনের খুব কাছের গ্রাম গুলোর পূজাতে। ওখানকার বাতাসে যেন সুখ আর শান্তির গন্ধ ছড়িয়ে আছে। যেখানে নেই কোনো থিমের লড়াই । তারা সবাই মাকে কখনো ভাগ হতে দেয় না ,টাকা আর অহঙ্কারত্বের মধ্যে দিয়ে। যেখানে তাদের রোজগার বলতে প্রায় নদীর ভরসা বললেই চলে। আর কিছু সংখক তো চাষবাসের উপর ভরসা। সেখান দিন খেটে খাওয়া মানুষ গুলোর কাছে দূর্গা পূজাটা যেন অন্য রকম। মন্ডপের মধ্যে নানা রকমের সিনারি রয়েছে। যেমন,পলিও টিকা করন,আত্মঘাতী মমো চ্যালেঞ্জ,একটি গাছ একটি প্রান,সফল রূপসী বাংলা এরকম বিভিন্ন সিনারি রূপ দিয়েছে মন্ডপের মধ্যে । যেগুলি মানুষকে শুধু মনো রঞ্জনের জন্য নয়। তার মধ্যে দিয়ে মানুষকে শিক্ষা ও সচেতনের বাহক হিসাবে কাজ করে।
  • दुर्गोत्सव के उपलक्ष्य में हुआ रौशन, पंडालों में उमड़े लोग
    Rama Shanker Prasad 2018-10-17 14:40:51
    भोजपुर, 17 अक्टूबर (आरएनआई)। जिले के चारपोखरी थाना क्षेत्र के नवयुवक संघ दुर्गा पूजा समिति, सेमरांव में दुर्गापूजा को लेकर लोगों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। विभिन्न पंडालों में लोगों की भीड़ देखी जा रही है। पूजा को लेकर पूरा क्षेत्र रौशन से जगमग है। पूजा समिति के सचिव विनय सिंह ने कहा कि 15 दिन लगातार प्रभात फेरी निकाली गई तथा लोगों को जागरूक किया गया। कहा कि पूजा समिति की ओर से चार दिवसीय नाट्य प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया है। पूजा कमेटी के पूजा पंडाल में भीतर घुसते ही मां की जयजयकार की आवाज सुनाई देती है। इस पंडाल को विशेष कर लोगों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। इस बार पूजा नाटक में बच्चों को ज्यादा आकर्षित कर रही है। स्थानीय सनोज कुमार ने मूर्ति का खर्चा उठाया तथा निर्माण कराया है। नव युुुवक दुर्गापूजा समिति के पंडाल का उद्घाटन प्रभुुनाथ सिंंह ने किया था। कमेटी के सदस्य, अध्यक्ष दशरथ सिंह, कोषाध्यक्ष मनोज गुप्ता, लक्ष्मण सिंह, शत्रुघन शर्मा, दीपक कुमार, विनोद कुमार, अनील कुमार, व्यास अरविंद, मुद्रिंका सिंह, मनोज लाल, दिनेश गुप्ता तथा सुभाष गुप्ता शामिल है। सदस्यों ने बताया कि ग्रामीणों के सहयोग से मिलकर पंडाल का निर्माण किया गया है।सप्तमी के दिन से ही यहां भक्तों की भीड़ उमड़ रही है। पंडाल में देवी दुर्गा की प्रतिमा की भी विशेषता है। पूजा का मतलब ही एक प्रकार की चमक है। अलग-अलग दिनों में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। समिति की ओर से बताया गया है कि प्रतिवर्ष की भांति इस बार भी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। दशमी को सभी समुदाय के संस्कृति व परंपरा को दर्शाया जाएगा। 
  • दुर्गा पंडाल में सातवें दिन कालरात्रि का पूजन व विशाल जागरण
    Ram Prakash Rathore 2018-10-17 11:34:06
    शाहाबाद (हरदोई), 17 अक्टूबर (आरएनआई)। मो . दिलेरगंज में आयोजित नवदुर्गा पूजन महोत्सव पंडाल में सातवें दिन कालरात्रि का पूजन किया गया।सायं दैनिक आरती के बाद सरस्वती म्यूजिकल ग्रुप सीतापुर द्वारा विशाल दुर्गा जागरण मनमोहक झांकियों के साथ प्रस्तुत किया गया। आरती के बाद पंडाल में भक्तों की भारी भीड़ के बीच ग्रुप के मुख्य गायक शिवांशु ने गणेश वंदना के साथ बदल गयी औलाद मगर माँ बाप नहीं बदले , ओ माँ ओ माँ तुम कहाँ , माता ही जन्मदाता माता ही जीवन चलाये , यह है माँ की ममता गीतों से समां बांध दिया। ग्रुप की गायिका आंशिक सिंह ने न जाने ये दुनिया किस पर इतराती है , सब कुछ यहीं रह जाता जब घड़ी वो आती है सुनाकर दर्शको को गम्भीर कर दिया अंत में बेटियां क्यों पराई हैं व पापा मैं छोटी से बड़ी हो गयी गीत प्रस्तुत कर कई दर्शको को रोने पर मजबूर कर दिया। ग्रुप के अन्य सहायको में पैड पर नन्हू , ढोलक पर मोहित , ऑर्गन पर सुधीर व ढोल पर आकाश जी ने संगत की। कार्यक्रम में विश्वनाथ त्रिपाठी , पवन अरोड़ा , संजय मिश्रा , राजीव बाजपेयी आदि रहे , थाना प्रभारी श्री दीनानाथ मिश्रा ने भी कार्यक्रम का बहुत देर तक आनन्द लिया। प्रातः व्यवस्थापक दीपक गुप्ता ने सभी का आभार प्रगट कर आगे के कार्यक्रमों में आमंत्रित किया।
  • धू धू कर जली लंका, तालियों की गडगडाहट से गूंजा रामलीला मैदान
    Ram Prakash Rathore 2018-10-17 11:33:48
    शाहाबाद (हरदोई), 17 अक्टूबर (आरएनआई)। बाल रामलीला नाट्य कला मंदिर द्वारा संचालित चौक रामलीला अपने पूरे शबाब पर है। दिन प्रतिदिन दर्शकों की संख्या में हो रहा इजाफा मेला की रोचकता का प्रमाण प्रस्तुत कर रहा है। वृंदावन की आदर्श रामलीला मंडल द्वारा अभिनीति 'लंका दहन' लीला को देखने के लिए मंगलवार को रामलीला मैदान में भारी भीड जुटी। भाजपा नेता राजेंद्र प्रसाद मिश्रा व आरती मिश्रा ने आरती पूजन कर मेला का शुभारंभ किया। तत्पशचात 'लंका दहन व अक्षय वध' लीलाओं का सफल मंचन किया गया। वृंदावन के कलाकारों द्वारा खेली गयी लीला में दिखाया गया। कि किस तरह अशोक वाटिका बैठी मां सीता के पास जाकर रावण स्वयं को अपनाने का प्रस्ताव रखता है। परंतु मां सीता द्वारा ऐसा करने से स्पष्ट मना करने के बाद लंकापति रावण क्रोधित हो जाता है और सीता की देखरेख में लगी तृजटा को सीता को भयभीत करने का निर्देश देता है। इसी बीच वानर के रूप में हनुमान अशोक वाटिका में प्रवेश करते हैं और पेड़ों पर बैठकर राम की दी हुई अंगूठी मां सीता के समक्ष डाल देते हैं । जिससे मां सीता को भान हो जाता है यह राम भक्त हनुमान हैं। उनके मन से स्वतः भय निकल जाता है। तत्पश्चात राम भक्त हनुमान अशोक वाटिका में उपद्रव मचाना शुरू कर देते हैं पेड़ों को उखाड़ उखाड़ कर फेंकना शुरू कर देते हैं इसकी सूचना अशोक वाटिका के पहरेदार लंकापति रावण को देते हैं। तब रावण अपने पुत्र अक्षय कुमार को अशोक वाटिका भेजता है जहां हनुमान अक्षय कुमार का वध कर देते हैं पुत्र के मारे जाने की खबर सुनकर रावण अपने ज्येष्ठ पुत्र मेघनाथ को भेजता है। मेघनाथ हनुमान को ब्रहमफास में बांधकर सीधे लंका ले जाकर रावण के समक्ष प्रस्तुत करता है। दूत को सजा न देने के वचन से बंधे होने के कारण सभा में हनुमान की पूंछ में आग लगा देने का निर्णय लिया जाता है। पूंछ में आग लगने के बाद राम भक्त हनुमान इधर उधर कूदकर लंकापति रावण की सारी लंका में आग लगा देते हैं। जिससे लंका धू-धू कर जल उठती है । लंका के जलने के साथ ही पूरा रामलीला मैदान तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठता है और जय श्रीराम के नारे से पूरा वातावरण गुंजायमान हो जाता है। इस मौके पर रामलीला कमेटी के वरिष्ठ पदाधिकारी रमाकांत मिश्र, चौधरी उमेश गुप्ता, राजेश बाबू वर्मा, वासु वर्मा, धीरू अवस्थी, धर्मवीर यादव, प्रदोष मिश्रा,विदित मोदी, डा मनीष शर्मा, मनीष रस्तोगी आदि मौजूद रहे।
  • MAREVELOUS PANDALS SET UP REPLICATING DIFFERENT TEMPLES AND HISTORICAL BUILDINGS
    RAJIV NAYAN AGRAWAL 2018-10-16 14:12:49
    Ara, October 16 (RNI) : Take your pick—The Shiv Temple of Chennai, Manas Tempe of Varanasi, Maa Dakshineshwar Temple of Kolkata, Fort of Mysore, Shiv Temple of Kolkata, Mahakaleshwar Temple of Ujjain, Jain Temple of Rajgir and so on. With about 150 Durga Puja Samitis put up their best show through elaborate pandals and decors, people of Ara are spoilt for choice as they went for pandals this Navratra. They gathered in large numbers to have glimpse of the grandeur of the marvelous piece of art. The beauty of the interiors, the lighting works and height of pandals and idols of the goddess Durga left the on-lookers awestruck and mesmerized.
  • PEOPLE THRONGED TEMPLES WITH THE OPENING OF EYES OF THE GODDESS
    RAJIV NAYAN AGRAWAL 2018-10-16 14:12:48
    Ara, October 16 (RNI) : Amidst blowing of conch and chanting of vedic mantras, the eyes of the Goddess were opened or red curtain fell late in the early morning on ‘saptami tithi’ first at the Aranya Devi temple followed by others in different parts of Bhojpur district. The pandals were decorated tastefully with series bulbs, festoons and cloloured tubes. Massive pandals were also erected.
  • माँ के जयकारों के साथ माता का पट खुला
    Rama Shanker Prasad 2018-10-16 14:12:43
    आरा, 16 अक्टूबर (आरएनआई)। आरा के चंदवा मोड पर देवी जी की वैदिक मंत्रो उचारण द्वारा पूजा सम्पन्न होने के बाद ही पट खुल गया ! वही माँ का पट खुलते ही श्रद्धालु में खास उत्साह देखा गया ! माँ के दर्शन के लिए भीड़ उमड़ पड़ी ! मां आरण्य देवी तथा जिले के कई जगहों पर देवी माँ का पट भी खुल गया और श्रद्धालु माँ दुर्गा की पूजा अर्चना में जुट गए !  बताया जाता है एक माह पूर्व से ही  कारीगरो द्वारा देवी जी की प्रतिमा बनाई गई है। जहाँ दूर- दूराज गांंव से हजारो की संख्या में श्रद्धालु  माँ के दर्शन करने आते है और पूरी आस्था और विश्ववास के साथ माँ दुर्गा की पूजा अर्चना करते है ! वही श्रद्धालु  माँ दुर्गा से अपने परिवार के लिए सुख शांति की कामना करते है ! श्रद्धालु की माने तो सच्चे मन से पूजा करने वाले सभी भक्तो की पुकार माँ सुनती और उसकी मनोकामना को भी पूरी करती है !
  • शिव सत्संग मण्डल के संस्थापक संत श्री कृष्ण कन्हैया के स्मारक का लोकार्पण हुआ
    Ram Prakash Rathore 2018-10-15 17:25:16
    शाहाबाद (हरदोई), 15 अक्टूबर (आरएनआई)। शिव सत्संग मण्डल के संस्थापक ब्रह्मलीन संत श्री कृष्ण कन्हैया के स्मारक का लोकार्पण मंडल के आद्य परमाध्यक्ष संत श्रीपाल ने ग्राम हुसेनापुर धौकल आश्रम पर किया।इस अवसर आयोजित धर्मोत्सव में संत ने कहा कि मंडल के संस्थापक संत कृष्ण कन्हैया ने शिव उपासना का आध्यात्मिक मार्ग दिखाकर समाज पर उपकार किया।उन्होंने इस धरा पर रहते हुए पूर्ण देवत्व प्राप्त कर लिया था।संत ने कहा कि संतों महापुरुषों का जीवन लोकहित के लिये होता है।
  • धूमधाम से निकली काली शोभायात्रा
    Neeraj Chakrapani 2018-10-15 15:51:50
    सासनी, 15 अक्टूबर (आरएनआई)। कस्बा के श्री रामलीला मैदान में श्री मानस कला मंच के कलाकारो ने निर्देशक हरिगोपाल गुप्ता एंव मुरारी लाल शर्मा के निर्देशन में चल रहे श्री रामलीला महोत्सव में बडे हर्षोल्लास और धूमधाम से मां काली शोभायात्रा निकाली गई। यह शोभायात्रा का शुभारंभ आचार्यों द्वारा विधिवत पूजा अर्चना कर निकाला गया।
  • DANDIYA BECOMES POPULAR IN ARA, AMBA ORGANIZED DANDIA NITE
    RAJIV NAYAN AGRAWAL 2018-10-14 17:50:58
    Ara, October 14 (RNI) : Think Navaratra, think dandiya! For, the Gujrati folk dance has become a popular part Navaratra celebration in the town with several clubs and organizations holding ‘garba’ nights. In fact, to give a Gujarati touch to the celebrations, the traditional ‘Chaniya-Choli (Gujrati ghaghra dress for women) and ‘Kedia’ (dhoti and frock for men) are available for hire in the town for as little as Rs. 100. “I have been letting out bridal and causal ‘lehengas’ , ‘Shervanis’, ‘garba,’ dresses and matching jewelry since 2004 and have seen Ara residents growing on it, “says Gyanesh Jain, who runs the outlet ‘Gifts and Gifts’ at Babu Bazaar.
  • बाल रामलीला चौक में किया गया 'दशरथ मृत्यु' लीला का मंचन
    Ram Prakash Rathore 2018-10-14 13:30:31
    शाहाबाद (हरदोई), 14 अक्टूबर (आरएनआई)। श्री बाल रामलीला नाट्य कला मंदिर के मंच पर वृंदावन की आदर्श रामलीला मंडल के कलाकारों द्वारा खेलीजा रही रामलीला में 'दशरथ मृत्यु' लीला का मंचन देख दर्शकों की आंखे सजल हो उठी। कलाकारों ने दशरथ मृत्यु का सजीव चित्रण कर खूब वाह वाही बटोरी। मेला के अंतिम समय तक दर्शकगण मेला मैदान में डटे रहे। शनिवार की रात बाल रामलीला के मंच पर दशरथ मृत्यु लीला का सफल मंचन किया गया। मेला जैसे जैसे अंतिम पडाव पर पहुंच रहा है वैसे वैसे मेला में दर्शकों की रोचकता बढती जा रही है। वृदांवन के कलाकारों ने दशरथ मरण लीला का सजीव मंचन कर दर्शकों के नेत्र सजल कर दिये। राजा दशरथ के मंत्री सुमंत जब भगवान राम को बनवास छोड़ने के लिए गए । उन्होने केवट से भगवान राम को सकुशल समुद्र पार कराने का आग्रह किया। नोका पर चढ़ाने के बाद मंत्री सुमंत भगवान राम को वन जाते हुए एकटक देखते रहे। वापस अयोध्या आने पर राजा दशरथ ने भगवान राम के बारे में जानकारी लेते हुए सुमंत से कहा । जाते वक्त राम ने उनसे क्या कहा । सुमंत ने बताया कि भगवान राम ने आपकी देखभाल करने का निर्देश दिया । राजा दशरथ ने उनसे पूछा क्या आपने उनको बनवास जाने के लिए नहीं रोका । मंत्री सुमंत ने स्पष्ट कहा कि भगवान राम की प्रतिज्ञा में वह किसी भी तरीके से विघ्न नहीं बनना चाहते थे। राम खुश होकर वन को प्रस्थान कर गये। मंत्री के मुख से भगवान राम के वन चले जाने का वृतांत सुनने के बाद राजा दशरथ को सदमा बैठ गया और उन्होने अपने प्राण त्याग दिये। राजा दशरथ के प्राण त्यागने का सजीव मंचन को दर्शक एक टक देते रहे और उनके नेत्र आंसुओं से भर गए । लीला के सफल मंचन में आदर्श रामलीला मंडल वृंदावन के कलाकारों ने अपनी कलाकारी का बेहतरीन प्रदर्शन किया । मेला शुभारंभ से पूर्व ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि नवनीत गुप्ता नीतू ने आरती की। इस मौके पर मेला कमेटी के संस्थापक राजेश वर्मा, अध्यक्ष चौधरी उमेश गुप्ता, महामंत्री बासु वर्मा, संयोजक धीरूअवस्थी कुलदीप सैनी, दिनेश सैनी, कन्हैया द्विवेदी, प्रदोष मिश्रा ,रमाकांत मिश्रा, आदि मौजूद रहे।
  • श्री नवदुर्गा पंडाल में बाला जी के जागरण की धूम
    Ram Prakash Rathore 2018-10-14 13:30:25
    शाहाबाद (हरदोई), 14 अक्टूबर (आरएनआई)। मो. दिलेरगंज में आयोजित नवदुर्गा पूजन पंडाल में चतुर्थ दिवस दैनिक पूजन ,आरती व प्रसाद वितरण के बाद विंध्यांचल ग्रुप शाहजहाँपुर के द्वारा श्री बाला जी का जागरण सुंदर झांकियों के साथ प्रस्तुत किया गया। ग्रुप के मुख्य गायक आदित्य पंडित ने मेरा मेहंदीपुर दरबार बाला जी बाला जी , हम तो बाबा के भरोसे चलते हैं , ये सोंटा बाबा का गाकर समां बांध दिया व अन्य गायकों में नरेंद्र शानू ने श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में , तेरे दर को छोड़ कहाँ जाऊँ व अंशुल पागल जी के द्वारा मेरा संकट कट गया , बाला जी के दरबार में , आ गये तेरे दीवाने पर्दा हटाइये , किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाये गाकर भक्तों को झूमने पर मजबूर कर दिया। मध्य रात्रि के बाद ग्रुप की गायिका प्रियंका सिंह ने कोई न सहारा दे हमे तेरा सहारा , माँ भक्तों के घर आओ , तेरी जगमग ज्योति जगे दिन रात , रखे मन मे विश्वास गाकर भक्तों को रोके रखा। कार्यक्रम में गणेश जी , राधा कृष्ण , भोले नृत्य व हनुमान जी की सुंदर झांकियां भी प्रमुख आकर्षण रहीं। प्रातः 4 बजे आरती व प्रसाद वितरण के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ। जागरण के यजमान दीपक शर्मा व अरुण शर्मा के साथ सरंक्षक संजय मिश्रा व व्यवस्थापक दीपक गुप्ता ने सभी का आभार प्रकट किया व प्रसाद देकर दूसरे दिन के कार्यक्रम में आने हेतु आमन्त्रित किया।
  • रविवार को होगा संत कृष्ण कन्हैया स्मारक का लोकार्पण
    Ram Prakash Rathore 2018-10-13 15:27:03
    शाहाबाद, 13 अक्टूबर (आरएनआई)। शिव सत्संग मण्डल के संस्थापक ब्रह्मलीन संत श्री कृष्ण कन्हैया के स्मारक का लोकार्पण 14 अक्टूबर को हुसेनापुर धौकल आश्रम (निकट टोडरपुर रेलवे स्टेशन) पर होगा।आचार्य राजेश पांडेय द्वारा यज्ञ के उपरांत स्मारक का लोकार्पण किया जायेगा।

Top Stories


Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?