HIGHLIGHTS

G20 member nations to promote policies that bridges all forms of digital divide

Root News of India 2018-08-26 10:53:35    SPECIAL 7624
New Delhi, August 26 (RNI) : At the G20 Digital Economy Ministerial Meeting in Salta, in the north-west of Argentina, G20 ministers and senior officials issued a declaration that reflects the G20’s commitment towards promoting “policies and actions that catalyze digital transformations. The Digital Economy Ministerial Meeting, held on 23-24 August, was attended by 33 heads of delegation- Ministers, senior officials and representatives from invited countries and international organizations, like EU, UNCTAD, ITU etc. India was represented by Union Minister for Electronics and IT and Law and Justice,Sh. Ravi Shankar Prasad.

Building on the contributions of the G20 Digital Economy Task Force, delegates deliberated upon efforts to create conditions that help governments, the private sector and civil society maximize the benefits and confront the challenges posed by technological progress. The other focus area of the meeting was digital inclusion, in particular the gender divide. Other related issued such as Digital government, digital infrastructure and measuring the digital economy were also deliberated.

Addressing the Plenary of the G-20 Digital Economy Ministerial meeting, Sh. Prasad said that India’s digital story is a story of hope and growth; of opportunities and profits. But above all it is a story of digital inclusion and empowerment. Digital India is a mass movement today touching the lives of a billion people. Minister Prasad said that he was very assured to note that an important theme of the meeting was bridging the gender divide adding that gender empowerment was an important focus for his government.

Highlighting the enormous scale of India’s digital infrastructure that included 1.21 billion mobile phones, of which 450 million are smartphones, nearly 500 million internet subscriber and an ever increasing broadband availability being supported by optical fibre connectivity in 250,000 village clusters, Minister Prasad said that the success of Digital India programme lay in the conscious efforts to bridge the digital divide and promote digital inclusion, based upon technology which is low cost, affordable, developmental and which fosters empowerment and inclusion.

The Minister, in particular, highlighted the important role played by India’s home grown technologies for promoting digital payment, including importance on interoperable open-

Source technologies so that these platforms can be used by others to develop more innovative structures as well as leading to new norms of digital identity based authentication which are a generation ahead. All this is in addition to the stellar role played by India’s IT companies, which have left their mark in 200 cities of 80 countries, enabling India to emerge as a profound digital power, with India’s digital economy likely to become 1 trillion $ economy in the next 3-5 years, he added.

Minister Prasad said that India believed in internet access for all, adding that the Internet is one of the finest creations of the human mind, but it cannot be the monopoly of a few. He also stated that while Cyber-space is truly global, it must be linked with local ideas, local culture and local views. He said that the largest and most dynamic markets for digital services are in Asia, Latin America and Africa with India having one of the largest foot-print of several popular social media and other digital platforms. It is only fair and just that the revenue and profit generated from these platforms be equitably reinvested in the largest markets to create more infrastructures and generate more job opportunities for the people there, he added.

Minister Prasad articulated India’s concerns about data protection and individual privacy and informed the meeting that India had already put in place stringent measures backed by laws passed by the parliament. He said that privacy cannot prohibit innovation nor can privacy become the shield for the corrupt or terrorists. We need data to improve business but the data must be anonymous, objective, and taken with consent, he added.

Minister Prasad stressed that India had taken a serious note of reported misuse of social media platform data. Such Platforms will never be allowed to abuse our election process for extraneous means, he added. He said that the purity of the democratic process should never be compromised and that India will take all required steps to deter and punish those who seek to vitiate this process.

India’s views received wide appreciation and support from several delegations including the hosts Argentina, Germany and the EU. Several other countries like Saudi Arabia, Russia, Indonesia and Japan expressed a keen desire to work with India in a range of IT and cyber related fields. India also presented a non-paper at the meeting listing its experience of using government platforms for inclusion and economic development, which was well received.

The meeting saw great interest in India’s JAM trinity of more than 300 million bank accounts of the poor along with Aadhar and mobiles which is empowering the poor by direct benefit transfer of their welfare entitlement into their bank account.

The G20 member nations agreed to promote policies that will contribute to bridging all forms of digital divide, with special attention to the digital gender divide. The countries agreed to promote digital government and digital infrastructure, strengthen the digital skills of the workforce, deepen the analysis towards digital economy measurement, and to share experiences and lesson learned”.

The G20 Ministerial meeting allowed India to showcase the inclusive use of digital technology by the Government to empower the people. It also allowed India to articulate it's views on global issues relating to cyber security, data protection and innovation for growth.

Related News

Special

  • Fisheye addresses women in advertising with a video on #MeToo
    Root News of India 2018-12-07 11:07:09
    Mumbai, December 6 (RNI) : Fisheye Creative Solutions Pvt. Ltd, a disruptive advertising and content agency, today launched a one-minute video supporting the #MeToo movement that has taken the business world by storm. The video pushes the #MeToo campaign to the next level by asking women in the advertising industry to keep the momentum going, to keep speaking up against sexual harassment in the work space, to keep ‘outing’ the offenders.
  • Indoor Air Quality in Hospitals
    Root News of India 2018-12-03 09:01:06
    New Delhi, December 3 (RNI) : Indoor Air Quality (IAQ) of a healthcare facility by definition involves a variety of factors such as thermal (temperature and relative humidity) conditions, presence of chemical components and contaminants as well the outdoor air quality. IAQ is vital in relation to environment inside hospitals, nursing homes and other healthcare facilities.
  • BSEB : इंटर परीक्षा-2020 के लिए 11वीं में रजिस्ट्रेशन की डेट जारी, दिसंबर में ही होगा सबकुछ
    Rama Shanker Prasad 2018-11-27 21:25:45
    पटना, 27 नवंबर (आरएनआई)। बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (BSEB) ने इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा, 2020 के लिए 11वीं में रजिस्ट्रेशन की तारीख जारी कर दी है. BSEB अध्यक्ष आनंद किशोर ने आज मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इसके लिए 6 से 20 दिसंबर तक रजिस्ट्रेशन और फीस जमा करने की तारीख रखी गई है. रजिस्ट्रेशन और फीस जमा करने की प्रक्रिया ऑनलाइन ही होगी।बोर्ड अध्यक्ष ने इसके साथ ही सभी विद्यालय प्रधानों को भी रजिस्ट्रेशन कराने से संबंधित कई निर्देश जारी किये है। मालूम हो कि बिहार बोर्ड ने 9वीं कक्षा में भी रजिस्ट्रेशन के लिए डेट का शेड्यल जारी कर दिया है. चेयरमैन आनंद किशोर के अनुसार शिक्षण संस्थानों के हेड 9वीं कक्षा में नियमित रूप से पढ़ रहे विद्यार्थियों तथा स्वतंत्र कोटि के विद्यार्थियों का रजिस्ट्रेशन/अनुमति आवेदन भराएंगे. साथ ही बोर्ड की वेबसाइट www.biharboard.online पर 15 नवंबर 2018 से 6 दिसंबर के बीच रजिस्ट्रेशन फॉर्म शुल्क के साथ आॅनलाइन जमा किये जाएंगे।
  • 2019 में होने वाली मैट्रिक और इंटर परीक्षा तिथि की घोषित, परीक्षा होगा होम सेंटर
    Rama Shanker Prasad 2018-11-16 13:33:26
    पटना, 16 नवंबर (आरएनआई)। बिहार में इंटरमीडिएट परीक्षा की तारीख की घोषणा आज आनंद किशोर ने कर दी है. छात्रों को राहत देते हुए आनंद किशोर ने एग्जाम को होम सेण्टर पर होने का भी ऐलान किया. उन्होंने बताया कि वर्ष 2019 में होने वाली ये परीक्षा 6 से 16 फरवरी के बीच आयोजित की जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि मैट्रिक की परीक्षा 21 से 28 फरवरी के बीच आयोजित होगी और इस बार दोनों परीक्षा होम सेंटरों पर आयोजित की जाएगी। बीएसईबी के अध्यक्ष ने जानकारी दी कि इस बार इंटर की परीक्षा के लिए 13 लाख 492 परीक्षार्थियों ने फॉर्म भरा है. जबकि मैट्रिक की परीक्षा में 16 लाख 57 हजार 257 परीक्षार्थी शामिल होंगे. उन्होंने दावा किया कि पूर्व के वर्षों की तरह ही इस बार भी कदाचारमुक्त परीक्षा आयोजित की जाएगी। मैट्रिक की परीक्षा का कार्यक्रम इस प्रकार है….
  • मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना
    Rama Shanker Prasad 2018-10-10 08:38:17
    आरा, 10 अक्टूबर (आरएनआई)। दूरस्थ आबादी को शहरों तक परिवहन सेवा उपलब्ध कराने के साथ साथ रोजगार के क्षेत्र में भी यह योजना सराहनीय है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में यात्री परिवहन व्यवस्था सुलभ कराना एवं कमजोर वर्गों के बेरोजगार युवक एवं युवतियों के लिए रोजगार का सृजन करना है। अनुदान की राशि वाहन के खरीद मूल्य के 50% तक की राशि अथवा ₹100000 होगी। वाहन के खरीद मूल्य से अभिप्राय है- वाहन का एक्स शोरूम मूल्य, तृतीय पक्ष बीमा एवं वाहन टैक्स तीनों को जोड़कर कुल राशि। योजना के तहत 4 सीट से 10 सीट तक के नए सवारी वाहनों को योग्य माना जाएगा। इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए लाभुकों की अर्हता निम्नलिखित होगी।
  • अल्पसंख्यक बच्चों के लिए खुशखबरी, मुख्यमंत्री का फैसला
    Root News of India 2018-09-11 19:37:45
    पटना, 11 सितंबर (आरएनआई)। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित मैट्रिक परीक्षा में फर्स्ट डिवीजन लाने वाले छात्रों के लिए बड़ी खुशखबरी है. साल 2018 में मैट्रिक परीक्षा में प्रथम श्रेणी से पास होने वाले 18756 अल्पसंख्यक और सामान्य श्रेणी के छात्रों को सरकार 10000 रुपये प्रोत्साहन राशि देने का फैसला अब पूर्ण रूप से कर लिया है. जबकि मुख्यमंत्री ने पहले ही इसकी घोषणा की थी। इसके लिए बिहार सरकार ने वर्ष 2018-19 में 18 करोड़ 75 लाख 60 हजार की राशि की स्वीकृति भी दी है. बिहार सरकार शिक्षा विभाग से जारी पत्र के मुताबिक सामान्य और अल्पसंख्यक छात्र जिनके परिवार की वार्षिक आय डेढ़ लाख रूपय तक है, उन्हें ही यह राशि मिलेगी. इसके साथ ही उन छात्रों को प्लस टू में पढ़ने का प्रमाण देना पड़ेगा. प्रोत्साहन राशि सीधे आरटीजीएस के माध्यम से उनके खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी। शिक्षा विभाग ने इस बार यह फैसला लेते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के तहत यह राशि इस साल मैट्रिक परीक्षा में सामान्य और अल्पसंख्यक श्रेणी से पास करने वाले 18756 छात्रों को दी जाने वाली है।
  • विसंगतियों का अनावरण करता श्री शिवेंद्र मिश्र द्वारा लिखित नाटक संग्रह कसाई बना बकरा
    Anand Mohan Pandey 2018-09-05 15:00:14
    शाहजहांपुर, 5 सितंबर (आरएनआई) I वर्तमान में देश सहित विश्व स्तर पर व्याप्त विसंगतियों एवं चुनौतियों की वास्तविकताओं को कसाई बना बकरा नाटक संग्रह के कैनवास पर श्री शिवेंद्र मिश्र जी ने बड़ी ही तकनीकि योग्यता और तमाम समायोजन की क्षमता के साथ उकेरा है साथ ही उसमें भाषा शैली पर्यावरण परिदृश्य ध्वनि संयोजन एवं पात्रों की भाव भंगिमा के जो रंग भरे हैं वह श्री मिश्र जी की परिस्थितियों वास्तविकताओं और वातावरण के प्रति संवेदनशीलता तथा विवेक पूर्ण विश्लेषण करने की क्षमता का एक उदाहरण है नाटक संग्रह के प्रथम नाटक प्रजातंत्र की वेदना में प्रजातंत्र की वास्तविकता की सरल भाषा में इतनी सूक्ष्म सर्जरी की गई है कि हमारे प्राचीन सर्जरी के जनक सुश्रुत भी चकित रह गए होंगे इसके अतिरिक्त संग्रह में तीसरे क्रम के नाटक कसाई बना बकरा में एक ऐसे विभाग की संवेदनहीनता और वास्तविकता का अनावरण किया गया है जिसे लोग चिकित्सा विभाग के रूप में जानते हैं लोग कहते हैं कि इसमें पृथ्वीवासी ईश्वर पाए जाते हैं मिश्रा जी इस धारणा को पूरी तरह खारिज नहीं करते किंतु आज अधिकतर किस प्रकार के ईश्वर वहां पाए जाते हैं उनके कृत्य एवं रूप का सजीव और यथार्थ सत्य वर्णन श्री मिश्र जी ने किया है साथ ही इस नाटक में कलम भक्षियों को निर्वस्त्र किया गया है जो अपने को लोकतंत्र के एक स्तंभ होने का भ्रम पाले हुए हैं रही बात दूसरे क्रम के नाटक आदर्शों की सीता की तो इसमें भाषा अवश्य थोड़ी क्लिष्ट है या कहें सामान्य परंपरागत भाषा से हटकर है किंतु यह कृति साहित्य के उच्च सृजन में किया गया नवीन एवं सार्थक प्रयोग है कुल मिलाकर वर्तमान में व्यवस्थाओं के क्षरण और वास्तविकताओं को प्रतिबिंबित करता यह नाटक संग्रह गागर में सागर भरने के समान है साथ ही मानवीय मूल्यों एवं संवेदना के प्रति श्री शिवेंद्र मिश्र जी की अतल संवेदनशीलता तथा शब्द शिल्पता की क्षमता उन्हें ईश्वरीय देन है
  • ३१ अगस्त को मनाये काला दिवस :- डा ओमकार नाथ कटियार
    Root News of India 2018-08-26 17:23:35
    नई दिल्ली, 26 अगस्त (आरएनआई) I देश की आजादी की लडाई लडी गयी १८५७ से १९४७, यानी ९० साल तक चली । जिन अंग्रेजो ने ६०० साल पुरानी मुगलिया सल्तनत खत्म कर दी और जिन अंग्रेजो के पास था बंदूक, रायफल, तोप, गोला बारूद, फौज, यहां तक भारत के सभी राजा महाराजा जमींदार और उनकी फौजे भी अंग्रेजो के साथ थी सबसे पहले किसान अंग्रेजों के खिलाफ १८४२ मे बागी हुआ क्योकि अंग्रेजो ने ग्राम स्वराज की जगह पटवारी, दरोगा, कलक्टर, और जज बैठाये । परिणाम स्वरूप किसानों ने १८५७ लडा और जीता पर पं जवाहर लाल के दादा पं गंगाधर नेहरू ने अंग्रेजो का पहला दिल्ली शहर कोतवाल होते गददारी की जिसके कारण पूरे देश मे आजादी की लडाई छिड गयी तब दो करोड लोग जंग मे मारे गये थे एक करोड को फांसी दी गयी थी सवा लाख गांवो को अंग्रेजो ने जलाया , लूटा, उजाडा और तोपो से नष्ट किया था अकेले आगरा- अवध संयुक्त प्रांत मे दो करोड की आबादी मे एक करोड का कत्ल किया गया था कलकत्ता से काबुल तक ऐसा कोई पेड नही जहां ४-६ लाशे न लटकी हो और ७-८ महीने बाद अंग्रेज फिर से दिल्ली पर काबिज हो गये । फिर शुरू हुआ सामूहिक कत्ले आम और फांसियो का दौर, और सभी शहरो मे पकड पकड कर सामूहिक फांसिया दी जाती रही अकेले जौनपुर जिले मे ७-८-९ जून १८५८ मे तीन लाख भारतियों को फांसिया दी गयी उसके बाद अंग्रेजो ने आम १८६० लगाई और सामूहिक फांसियां दी जाती रही, उसके बाद अंग्रेजो ने सीआरपीसी लगाकर भारतियों पर जुर्म ढाये तब भी जब अंग्रेजो के खिलाफ बगावत कम नही हुई तब अंग्रेजो ने हम सब भारतियो पर अंकित अपराथी जन जाति एक्ट ( नोटीफाइड क्रिमिनल ट्राइब एक्ट १८७१........१९२४.....१९४६ जो ३१ अगस्त १९५२ को पं जवाहर लाल नेहरू ने बडीं चालाकी से इन एक्टो को डीनोटीफाइड (बिमुक्त) किया पर जन्म जाति अपराधी कानून को हैविचुअल एक्ट यानी आदतन कानून ३४ मे बदल कर हम सब पर एक और कालिग पोत दी ये हैविचुअल एक्ट(आदतन कानून) नही होना चाहिये था क्यो कि हम सब के पूर्वज अंग्रेजो के खिलाफ बागी रह कर लाठी ,डंडा, बरछी, भाला, कुदाल,फावडा,और कुल्हाडी और तलवार से लडे और आजादी मिलने के बाद लगभग ढाई करोड बागी लोगो (औरत आदमी बडे बच्चो) को जेल से निकाला सरदार पटेल जी ने देखा कि इनके पास न छप्पर, न मडैया, न घर, न मकान, न पढाई , न नौकरी थी तो सरदार पटेल जी ने होम मिनिस्टर होते हुये ठक्कर बापा कमेटी १९४७-४९ बनाई बाद मे १९४९-५० अयंगर कमेटी ( क्रिमिनल ट्राइब इंक्वारी कमेटी बनाकर तीन पीडियों के लिये मान सम्मान और पेंशन दी क्योकि अंग्रेजो ने हम सबकी ३-४ पीडियो को हर तरह से बर्बाद किया ( जर- जोरू - जमीने लूटी, फांसियां खाई, गोलियां खाई, काले पानी की सजाये काटी, देश निकाले लिये , और ८१ सालो तक जन्म जाति अपराधी अपराधी के मुकदमे चलाये । अंग्रेजो ने कांग्रेस से कहा कि अगर देश पर राज करना है तो किसानो और सभी बिमुक्ति जन जातियो को कुत्ते की तरह भूखा रखो सरदार पटेल तो १५-१२-१९५० को नही रहे, पर पं जवाहर लाल नेहरू ने अपने दादा पं गंगाधर नेहरू की गददारी छुपाने के लिये षडयंत्र किया यहां तक जब फरवरी - मार्च १९५२ मे पहले लोक सभा और बिधान सभा चुनाव हुये पं जवाहर लाल नेहरू ने उन सभी को फिर से जेल मे डाल दिया,और न इनको लोकसभा ,बिधानसभा चुनाव तक नही लडने दिया न उनको वोट देने दिया बल्कि उनको जेलो मे डाल दिया और बाद मे हमदर्दी दिखाते हुये उन सब को डीनोटीफाइड यानी बिमुक्ति कर दिया । केंद्र सरदार इन सबके मान सम्मान के लिये अबतक १३ कमीसन और कमेटी बना चुकी है पर सिफारिसे किसी की नही मानी है । अल हिन्द पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट मे केस किया दो जजो की खंडपीठ ने दिल्ली हाई कोर्ट भेजा हमने दिल्ली हाई कोर्ट मे केस किया कोर्ट के आदेश पर महामहिम राष्टपति राम नाथ कोविन्द जी ने दिल्ली हाई कोर्ट की पूर्व मुख्य न्यायधीश के अधीन ४ सदस्यीय कमीसन २ अक्टूबर २०१७ को बनाना पडा आजादी के ७१ साल बाद पहली बाद राष्टपति जी ने जूडिसियल कमीसन बनाया है जो अपनी रिपोर्ट सीधे महामहिम राष्टपति जी को सौपेगा।
  • 9 अगस्त 1925 : अमर बलिदानियों कोे शत शत नमन I
    Anand Mohan Pandey 2018-08-09 13:01:07
    शाहजहांपुर, 9 अगस्त (आरएनआई) | आज ही के दिन वर्ष 1925 में मां भारती के अमर सपूतों पंडित राम प्रसाद बिस्मिल अशफाक उल्ला खां ठाकुर रोशन सिंह चंद्रशेखर आजाद राजेंद्र लाहिड़ी आदि ने शाहजहांपुर से लखनऊ की ओर जाने वाली 8:00 डाउन ट्रेन से काकोरी के निकट अपने देश के खजाने को छीन लिया यह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास का स्वर्णिम दिन था इस दिन खजाने को प्राप्त करके मां भारती के अमर सपूतों ने अंग्रेजों के ताबूत में एक कील ठोक दी थी जिसकी सिरहन इंग्लैंड तक फैल गई तत्कालीन अंग्रेज हुकूमत पागलों की तरह अति वीरों को ढूंढने लगी थी बाद में क्रूरता का परिचय देते हुए अंग्रेजी हुकूमत ने पंडित राम प्रसाद बिस्मिल अशफाक उल्ला खां तथा ठाकुर रोशन सिंह को फांसी की सजा दे दी और बे मां भारती के चरणों में अपना महा बलिदान देकर अमर हो गए स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास लेखन के विषय में अपने विचार प्रकट करते हुए स्थानीय अमर शहीद स्मृति समिति के संरक्षक एवं वरिष्ठ पत्रकार रमेश शंकर पांडे ने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन में संघर्ष की घटनाओं को आजाद भारत में लूट विद्रोह या गदर जैसे शब्द से संबोधित करना दुखद है इन शब्दों पर लगाम लगाने के लिए इतिहासकार बुद्धिजीवी और सरकार आगे आएं
  • India to gear up for Industrial Internet Of Things (IIoT) revolution
    Root News of India 2018-07-20 21:53:07
    New Delhi, July 20 (RNI) | Industrial Internet of Things (IIoT) revolution is being heralded by Make in India, Industrial 4.0, Smart Factories that are equipped to support IIoT evolution. McKinsey Global Institute estimates that IIoT will have a potential global economic impact of upto $6.2 trillion by 2025. Having said that IIoT is all set to change the face of manufacturing by enabling the acquisition accessibility of an enormous amount of data at far greater speeds and far more efficiently as before. A number of innovative companies have started Industry 4.0 initiatives and driving IIoT projects to make their factories ‘smart’.
  • ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मुसलमानों के लिए किया एक बड़ा फैसला
    Root News of India 2018-07-11 14:15:07
    नई दिल्ली, 11 जुलाई 2018, (आरएनआई), (शाहनवाज शेख) | ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मुसलमानों के मसले को हल करने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है। पर्सनल लॉ बोर्ड ने फैसला किया है कि उत्तर प्रदेश के हर ज़िले में शरीयत कोर्ट (दारुल-कजा) का गठन किया जाएगा। बोर्ड का कहना है कि सबसे ज़्यादा मामले मुसलमानों के उत्तर प्रदेश से ही होते हैं, और यहीं के मामलों को सियासी रंग दिया जाता है, इस लिए उत्तर प्रदेश के हर ज़िले में शरीअत कोर्ट खोला जाएगा।
  • बाबा आया सिंह कालेज : पंजाब का एक ऐसा महिला कॉलेज, जहां न ही फीस लगती है और न ही है कोई टीचर और यहाँ के बच्चे हैं टॉपर
    Root News of India 2018-07-09 14:24:07
    चंडीगढ़, 09 जुलाई (आरएनआई) | भूमण्डलीकरण, निजीकरण के अजीब बाजारू लेकिन मानसिक तौर पर गरीब दौर में जहाँ शिक्षा को व्यापार के रैंप पर चढ़ाकर मुनाफे के गुल्लक भरे जा रहे हों, वहीं पंजाब में एक ऐसा शिक्षण संस्थान भी है, जहाँ सेवा, सुमिरन, सहयोग, सादगी, शुचिता, ईमानदारी, सच्ची किरत, सद्कर्म तथा परोपकार का व्यावहारिक पाठ पढ़ाया जाता है।
  • Shankar Mahadevan Academy associates with Maharashtra Mandal Singapore
    ADMIN 2018-06-26 20:20:02
    New Delhi, June 26 (RNI) Shankar Mahadevan Academy (SMA), a world renowned music school founded by singer and composer Shankar Mahadevan, today on World Music Day announced a partnership-with Maharashtra Mandal Singapore (MMS), to offer Indian music programs to students in Singapore. This association will look at reaching out to Indians based out of Singapore and further enhance their music learning experience.
  • Evergen and Airlabs announce World’s first Clean Air Zone “AirHavn”– to demonstrate an innovative new technology to clean air pollution in Delhi
    ADMIN 2018-06-18 15:07:31
    New Delhi, June 18 (RNI) | Evergen Systems along with theirtechnology partner, Airlabs today announced the launch of ‘AirHavn’ the pilot of the World’s First Clean Air Zone at Lakhi Shah Banjara Hall, Gurudwara Rakabganj Saheb, Delhito demonstrate the revolutionary technology and announce their plans for cleaning air pollution across India. Present at the launch were Dr. Matthew Johnson, Professor of Atmospheric Chemistry at University of Copenhagen, Chief Scientific Officer at Airlabs and Sukhbir S. SIDHU, Founder and CEO, Evergen Systems, Dr. Shankar Aggarwal, Senior Scientist, Gas Metrology Section, National Physical Laboratory of India and Manjit Singh GK, President of Delhi Sikh Gurudwara Management Committee.
  • सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डॉक्टर पाठक निक्की एशिया सम्मान से सम्मानित
    ADMIN 2018-06-14 10:37:25
    टोकियो, 14 जून (आरएनआई) | जाने-माने भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता और सुलभ शौचालय जैसी सस्ती तकनीक के जनक डॉ. बिंदेश्वर पाठक को यहां इस साल के प्रतिष्ठित निक्की एशिया पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्हें यह पुरस्कार संस्कृति और समुदाय श्रेणी के लिए दिया गया। भारत से पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह और इन्फोसिस के चेयरमैन एन आर नारायणमूर्ति इस पुरस्कार से पहले सम्मानित हो चुके हैं.
  • मनुष्य से बेहतर टार्डिग्रेड्स
    ADMIN 2018-05-12 21:19:32
    नई दिल्ली, 12 मई (आरएनआई) | अगर आप स्पेस में जातें हैं तो पहले आप गला घुटने की बजाए शरीर के फटने से मरेंगे, क्योंकि वहां पर हवा का दबाब नहीं है, अगर मनुष्य को बिना किसी सुरक्षा उपाय के अंतरिक्ष में छोड़ दिया जाए तो वह केवल 2 मिनट तक ही जीवित रहेगा, फिर ऐसा कौन सा जीव है जो मानव से भी बेहतर है और खुद को इतना विकसित कर चुका है कि किसी भी विषम परिस्थिति में खुद का बचाव कर सकता है ।
  • काला हिरण मामले में सलमान की जमानत याचिका पर सुनवाई 17 जुलाई तक स्थगित
    ADMIN 2018-05-07 14:41:58
    जोधपुर, 7 मई (आरएनआई) | 1998 के काला हिरण शिकार मामले में अभिनेता सलमान खान की जमानत याचिका पर सुनवाई 17 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दी गई है। इससे पहले सलमान की जमानत याचिका पर आजसुनवाई होनी थी।
  • वर्ल्ड अस्थमा डे पर डॉ. सक्सेना की कॉजकनेक्ट वसुधा ने एक अनोखा जागरूकता अभियान शरू किया
    ADMIN 2018-05-03 21:00:13
    नई दिल्ली, 3 मई (आरएनआई) | यह सच हैं की सुबह हम सब ताज़े अख़बार की प्रतीक्षा करते हैं पर शायद ही किसी ने अख़बार डालने वला के प्रति सोचा होगा. कैसा भी मौसम हो, कैसा भी वातावरण हो, वह दिन प्रति दिन इस कार्य को अंजाम देता है I
  • पर्यावरण की रक्षा, सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता जरूरी
    ADMIN 2018-05-03 14:11:32
    नई दिल्ली, 3 मई (आरएनआई) | कंपनी चेरी हिल इंटीरियर्स प्राइवेट लिमिटेड ने पर्यावरण की रक्षा व सड़क सुरक्षा के प्रति छात्रों में जागरूकता लाने के मकसद से 'एलिमेंट्स-2018' के नाम से एक अंतर कॉलेज स्पर्धा का आयोजन किया। इस स्पर्धा में छात्रों को सड़क सुरक्षा और अपने आस-पड़ोस को स्वच्छ बनाए रखने के लिए जरूरी उपायों की जानकारी दी गई।
  • Today's Google Doodle Celebrates Labour Day 2018
    ADMIN 2018-05-01 08:50:39
    New Delhi, 1 May (RNI) | Today's Google Doodle celebrates Labour Day, also known as International Workers' Day. Celebrated on May Day, which is May 1, Labour Day celebrates the working classes and labourers. The origins of Labour Day date back to the late 19th century when the trade union and labour movements were growing in the US. Labour Day is a public holiday in many countries including India, although it is now not given the same importance as it used to be given earlier in north India.It was decided that May 1 would be celebrated as International Workers' Day to commemorate the aftermath of a bombing at a labour protest against the police in Chicago in 1886. On May 4 1886, a peaceful rally was taking place at Haymarket Square in Chicago in support of workers striking for an eight-hour working day and in protest of the killing of many workers on the previous day by the police.As the protest went on, an unknown person threw a dynamite bomb at the police as they acted to disperse the protesters. Gunfire ensued after the bombing and seven police officers an at least four civilians were killed. The incident is remembered as the Haymarket affair, or the Haymarket massacre. The place in Haymarket Square where the incident happened was designated a Chicago Landmark in 1992.

Top Stories


Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?