HIGHLIGHTS


Indoor Air Quality in Hospitals

Root News of India 2018-12-03 09:01:06    SPECIAL 3458
Indoor Air Quality in Hospitals
New Delhi, December 3 (RNI) : Indoor Air Quality (IAQ) of a healthcare facility by definition involves a variety of factors such as thermal (temperature and relative humidity) conditions, presence of chemical components and contaminants as well the outdoor air quality. IAQ is vital in relation to environment inside hospitals, nursing homes and other healthcare facilities.

Poor hospital IAQ may cause outbreaks of building-related illness such as headaches, fatigue, eye, and skin irritations, and other symptoms. The pre-requisite for any hospital facility is to provide for and ensure a good IAQ to safeguard patients, nursing staff and visitors from the hazards of occupational diseases and nosocomial or hospital-acquired infections (HAI).

According to the World Health Organization, at any given time over 1.4 million people across the globe suffer from a nosocomial or HAI. HAIs account for 2 million cases and about 80,000 deaths a year. Understanding the well being of its patients and workers and safeguarding their health is a matter of utmost importance to healthcare facilities. Nosocomial infections are a major threat to the patients' safety in any health-care facility. However, the prevalence is higher in the Intensive Care Units (ICUs) than other areas of the hospital. This increased prevalence of nosocomial infection not only influences the mortality and morbidity pattern of ICU but also poses a significant financial burden to the patient and the society.

Further to this a 2008 study by the International Society of the Built Environment of indoor and outdoor air quality in hospitals in India revealed the counts of bacteria higher in ICUs and wards namely the orthopaedic ward, neonatal ward, dialysis ward and post operative ward beyond the recommended levels. The mere presence of fungi in hospital air was a matter of great concern as many spores can be released leading to an incidence of HAIs and occupational infections. Noteworthy is the finding that the high counts were influenced by the activity of ventilation provided.

SICK BUILDING SYNDROME (SBS)

The issue of improving air quality in buildings has previously been mainly related to SBS. It is a situation in which occupants of a building experience linked to time spent in the building with no specific illness. Symptoms of SBS are acute discomfort, headaches, dizziness, eye, nose, throat irritation, dry cough, itchy skin, nausea etc. Recently many researchers have worked on SBS issue and its effect on office workers and noticed that SBS is not linked to the type of ventilation or air conditioning system used but it is more likely to be a function of how well system are installed, managed and operated. Therefore Operation and Maintenance of HVAC systems in hospitals are more critical than other buildings.

Active Ionisation technology to improve IAQ

Active Ionisation technology has an elevated antibacterial power and is proven to be active on pollen, fine dust, toner, mould, smog, viruses, bacteria and tobacco smoke. These contaminants, according to their size, can enter the body and damage certain organs. Among the most dangerous airborne substances we find Legionella, a very topical problem that causes millions of deaths every year. With Evergen’s Active Ionisation air cleaners, this problem is eliminated as pollen, dust mites, fungus and other contaminants are captured and inactivated.

The technology is extremely efficient and is proven at removing 98-99% of:

- Airborne bacteria, such as Micrococcus luteus;

- Yeast, such as Rhodotorula rubra;

- Bacillus Anthracis;

- Moulds and germs present in the natural spectrum of air.

Maintaining the humidity levels

The heating, ventilation and air conditioning systems of buildings and their components, as well as sanitary equipments, can nurture and amplify the diffusion of airborne substances. Among these, Staphylococcus Aureus and Legionella are seen as particularly dangerous. The first cases of legionellosis were in fact attributed to airborne substances containing bacteria from cooling towers, evaporative condensers or humidification sections of the air handling units of AC systems. Infections are also caused by contamination of water supply networks, sanitary appliances, oxygen therapy equipment, fountains and ultrasonic humidifiers.

Conclusion

Hospitals are the backbone of health care delivery system in India; this again highlights that maintaining a healthy IAQ and demands immediate attention of hospital authorities towards taking the necessary measures to maintain a sound and healthy atmosphere for the patients, healthcare workers and others.

By- Sukhbir Sidhu,

Founder and CEO Evergen Systems

Related News

Special

Water crisis in India, it’s time to act in 2019
Root News of India 2019-01-11 07:29:08
New Delhi, January 11 (RNI): India is facing the worst water crisis in its history, and it’s learnt that 21 Indian cities will run out of groundwater by 2020 as per the latest report from the NITI Aayog – a government think tank.
AYURVEDIC TREATMENT IS EFFECTIVE IN PANCREATITIS DISEASE
Root News of India 2019-01-04 14:39:59
Gadarpur, January 4 (RNI): Pancreatitis, the inflammatory disorder of the pancreas, develops when enzymes secreted by the pancreas are unable to pass into the duodenum due to blockage within the pancreas, causing auto-digestion of pancreatic tissues. Patients of pancreatitis suffer from abdominal pain, nausea, vomiting, indigestion, steatorrhea, weight loss and diabetes. These symptoms have sudden onset and gradually progress into chronic form. There is no established cure of the disease in modern medicine. Lifelong pancreatic enzymes along with emergency hospitalizations to manage repeated acute exacerbations of the disease are the generally used treatments. Advance surgical procedures and stenting are also being used in certain cases. The unpredictable nature and limited treatment options adversely affect the psychological state of patients.
कीटनाशको के बढ़ते इस्तेमाल से तेजी से फैल रहा है पेनक्रिएटाइटिस रोग : बालेन्दु
Root News of India 2019-01-03 18:02:57
-शोध में पाया गया कि छोटे छोटे बच्चे भी आ रहे हैं बीमारी की चपेट में
وزیر اعظم کا دورہ اتر پردیش کل وارانسی میں چھٹے بین الاقوامی رائس ریسرچ انسٹی ٹیوٹ کو قوم کے نام وقف کریں گے
Ashar Hashmi 2018-12-28 15:44:49
نئی دہلی، 28 دسمبر 2018 (آر این آئی): نئی دلّی ، 28 دسمبر؍ وزیر اعظم جناب نریندر مودی کل یعنی 29 دسمبر کو اتر پردیش کے وارانسی اور غازی پور کا دورہ کریں گے ۔ اپنے دورے کے دوران وہ وارانسی میں ساؤتھ ایشیا ریجنل سینٹر ( آئی ایس اے آر سی ) کے کیمپس میں چھٹے انٹر نیشنل رائس ریسرچ انسٹی ٹیوٹ کوقوم کے نام وقف کریں گے اور وارانسی میں دین دیال ہستھ کلا سنکل میں ون ڈسٹرکٹ ، ون پروڈکٹ ریجنل سمٹ میں شرکت کریں گے ۔ غازی پور میں وزیر اعظم مہاراجہ سہیل دیو کی یاد میں ایک یادگاری ڈاک ٹکٹ جاری کریں گے اور ایک عوامی ریلی سے بھی خطاب کریں گے ۔
प्रधानमंत्री कल उत्तर प्रदेश का दौरा करेंगे
Root News of India 2018-12-28 15:13:30
नई दिल्ली, 28 दिसंबर (आरएनआई)। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी कल 29 दिसंबर, 2018 को उत्तर प्रदेश में वाराणसी और गाजीपुर का दौरा करेंगे। इस दौरे के अवसर पर प्रधानमंत्री वाराणसी में छठा अंतर्राष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान दक्षिण एशिया क्षेत्रीय केन्द्र (आईएसएआरसी) परिषद राष्ट्र को समर्पित करेंगे। श्री मोदी वाराणसी में दीनदयाल हस्तकला संकुल में एक जिला, एक उत्पाद क्षेत्रीय सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। प्रधानमंत्री गाजीपुर में महाराजा सुहेलदेव पर एक स्मारक डाक टिकट जारी करेंगे और एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे।
Prime Minister to visit Uttar Pradesh tomorrow
Root News of India 2018-12-28 09:36:14
New Delhi, December 28 (RNI): Prime Minister, Shri Narendra Modi will visit Varanasi and Ghazipur in Uttar Pradesh on 29th December, 2018. During the visit, he will dedicate the 6th International Rice Research Institute South Asia Regional Centre (ISARC) campus to the nation in Varanasi and attend the One District, One Product Regional Summit at Deendayal Hastakala Sankul in Varanasi. A commemorative postal stamp on the Maharaja Suheldeo will be released by the Prime Minister in Ghazipur where he will also address a public rally..
حیدرآباد کا اصلی ہیرو کون ہے
Jahangir Adil 2018-12-20 11:48:01
حیدرآباد، 20 دسمبر 2018 (آر این آئی): آج میں نے مجلس بچائو تحریک کے ترجمان جناب امجد اللہ سے انٹروییو کیا _ اپنے انٹر ویو میں انہوں نے بتایا کہ ہماری پارٹی حیدراباد میں چار سیٹوں پہ انتخاب لڑ رہی ہے اور ہمارا کسی پارٹی سے الحاق نہیں ہے _ان کی باتوں سے یہ صاف ظاہر ہو رہا تھا کے انکا اصل سیاسی حریف مجلس اتحار المسلمین ہے اور وہ ایم آئی ایم کو ہی شکست دینا چاہتے ہیں انہوں نے اسد ادین اوسی پر بہت ہی تیکھا حملہ کرتے ہوئے کہا کہ اسد ادین نے مسلمانوں کو صرف دھوکہ دیا ہے اور بی جے پی کی بی ٹیم کے طور پہ کام کر رہے ہیں اور اوقاف کی زمینوں کے غبن کا بھی الزام لگایا _ وسیے اپنی پارٹی کی طرف سے بہت ہی مستحکم اور مثبت نظر آرہے ہیں اب تو انتخاب کا نتیجہ ہی پتائے گا کہ حیدراباد کا اصل ہیرو کون ہے
ملک کے 91 بڑے آبی ذخائر کی سطح آب میں دو فیصد کمی
Ashar Hashmi 2018-12-20 11:22:52
نئی دہلی، 20 دسمبر 2018 (آر این آئی): نئیدہلی۔21؍دسمبر۔20 دسمبر 2018 کو ختم ہونے والے ہفتے میں ملک کے 91 بڑے آبی ذخائر میں 88.943 بی سی ایم پانی موجود تھا جو ان آبی ذخائر میں پانی جمع کرنے کی کل گنجائش کے 55 فیصد کے بقدر تھا جبکہ 13 دسمبر 2018 کو ختم ہونے والے ہفتے میں ان آبی ذخائر میں جمع ان کی کُل گنجائش کے 57 فیصد کے بقدر تھی۔ اس طرح 20 دسمبر 2018 کو ختم ہونے والے ہفتے میں ان آبی ذخائر میں جمع پانی کی مقدار ان کی کُل گنجائش کے 98 فیصد اور پچھلے دس سال کی اسی مدت کے اوسط کے 93 فیصد کے بقدر تھی۔ملک کے شمالی خطے میں ہماچل پردیش، پنجاب اور راجستھان کی ریاستیں واقع ہیں، ان ریاستوں میں 6 بڑے آبی ذخائر موجود ہیں ، سینٹرل واٹر کمیشن 18.01 بی سی ایم پانی جمع کرنے کی کُل گنجائش والے ان آبی ذخائر میں موجود پانی کی صورتحال پر نگاہ رکھتا ہے، سردست ان آبی ذخائر میں 12.84 بی سی ایم پانی موجود ہے جو ان میں پانی جمع کرنے کی کُل گنجائش کے 71 فیصد کے بقدر ہے ، پچھلے سال کی اسی مدت کے دوران ان آبی ذخائر میں جمع پانی کی مقدار ان کی کُل گنجائش کے 59 فیصد کے بقدر تھی اور پچھلے دس برس کی اسی مدت کے اوسط میں بھی یہ مقدار 59 فیصد تھی اس طرح جاری سال کے دوران ان آبی ذخائر میں جمع پانی کی صورتحال پچھلے سال کے مقابلے بہتر اور پچھلے دس برسوں کی اسی مدت کے اوسط کے مقابلے بھی بہتر رہی ہے۔
Trends in HR to lookout for in 2019
Root News of India 2018-12-18 08:33:46
New Delhi, December 18 (RNI): We are at the end of the year 2018 and organisations and employees have just begun foreseeing what will be the situation in 2019 like for Human Resources. Am sure organizations are preparing for surveys to track advance, it's best to be refreshed. With a large group of developments and mechanical changes thumping on figurative industry entryways, enrollment specialists can plan to welcome 2019 with an upturn of new HR Trends that are soon to hit the business.
सर्दी का प्रकोप जारी, नहीं निकली धूप
Rama Shanker Prasad 2018-12-17 18:16:02
पटना, 17 दिसंबर (आरएनआई)। तापमान में गिरावट के चलते ठंड का प्रकोप जारी है। सोमवार को रात-दिन के तापमान में आंशिक बढ़त के बाद भी ठंड पूरे यौवन पर है। धूप नहीं निकलने और शीत लहर चलने से ठंड का प्रकोप जारी है। ठंड में नन्हें बच्चे ठिठुरते हुए स्कूल जाने को मजबूर हुए। रात से ही ठंड का असर दिखाई देने लगा। तापमान में गिरावट के चलते ठंड का प्रकोप जारी है। सोमवार को रात-दिन के सोमवार की पूूरे दिन तक आसमान में दिनभर बादल छाए रहे, सुबह एक-दो घंटे तक हल्की धूप निकली और बादल छाए रहे और शीत लहर लगातार जारी है। रविवार से न्यूनतम तापमान एक डिग्री बढ़त के बाद भी ठंड कम नहीं हुई है। गलन के चलते लोग हीटर व अलाव का सहारा ले रहे हैं। ठंड के बाद भी सुबह से  ही बच्चे स्कूल जाने के लिए सड़क पर निकल पडते है।जिला
आयुर्वेद की पुरानी परंपरा को आगे बढ़ा रहे है वैध बालेन्दु प्रकाश
Root News of India 2018-12-17 11:01:33
गदरपुर, 17 दिसंबर (आरएनआई)। वैद्य बालेन्दु प्रकाश का नाम आयुर्वेद के उन चुनिंदा वैद्यो में है जिन्होंने आयुर्वेद की प्राचीन परम्परा को अपने पिता श्री शशि चन्द्र प्रकाश की आयुर्वेदीय परंपरा को आगे बढ़ाया।वैद्य बालेन्दु प्रकाश को सबसे कम उम्र में राष्ट्रपति द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया ।वैद्य बालेन्दु प्रकाश ने उत्तरप्रदेश एवं उत्त्तराखण्ड की सीमा पर शशि चन्द्र रसशाला को स्थापित किया है।इस रसशाला मे ताजी जड़ी बूटियों से ‘अमर’ ,प्रेक् -20 जैसी दवाओं का निर्माण किया जा रहा है।वैद्य बालेन्दु की रसशाला में एक औषधि भस्म के निर्माण में लगभग एक से दो वर्ष का समय लगता है।वैद्य बालेन्दु प्रकाश का नाम प्रोटोकोल विकसित कर आयुर्वेदिक़ चिकित्सा करने के एक नए तरीके को विकसित किया है।उनके द्वारा विकसित दवा स्नीजक्योर झंडू फार्मा द्वारा बाजार मे लाई जा रही है ।वैद्य बालेन्दु प्रकाश द्वारा रसशाला के समीप ही प्रकाश डेयरी स्थापित की गई है जहां देशी एवं विदेशी नस्लों की 90 गायें सेवा हेतु रखी गई है । इससे ग्रामीणों को स्वरोजगार के भी अवसर मिल रहे हैं उनके द्वारा गदरपुर में पड़ाव आयुर्वेदिक़ चिकित्सा केंद्र स्थापित किया गया है जिसमे एक साथ सैकड़ो मरीजो के इंडोर भर्ती होने की सुविधा है।मरीजों की भर्ती के लिए डीलक्स ,सेमीडीलक्स और सामान्य कमरे उपलब्ध किया जा रहा है।वैद्यजी द्वारा स्थापित उक्त आयुर्वेदिक़ चिकित्सा केंद्र में पेंक्रियाटाइटिस के देश भर के मरीज भर्ती हैं ।वैध बालेन्दु प्रकाश ने कुमाऊँ केसरी के प्रबन्धक प्रदीप फुटेला से अपनी इस चिकित्सा पद्धति के बारे में विस्तार से चर्चा की उन्होंने बताया कि पूरे विश्व में इस लाइलाज बीमारी का उपचार नही है लेकिन उन्होंने अपने पिता से प्राप्त आयुर्वेदिक नुस्खे को देखा तथा इससे कई पीड़ित रोगी पूरी तरह ठीक हुए है उन्होंने बताया कि उनके पास668 रोगी अब तक आये हैं जिनमे 319 मरीज पूर्ण रूप से स्वस्थ हो चुके हैं।
हॉस्पिटल के बाहर बेसब्री से इंतजार कर रहे थे आवारा कुत्ते
Root News of India 2018-12-16 16:14:27
रियो डू सुल, 16 दिसंबर (आरएनआई)। कहा जाता है कि कुत्ता इंसान का सबसे अच्छा दोस्त है। ये बात इस वायरल फोटो से समझी जा सकती है। ये फोटो ब्राजील के एक हॉस्पिटल के मेन गेट के बाहर का है। यहां चार लावारिस कुत्ते एक शख्स के लौटने का इंतजार कर रहे थे। ये फोटो एक नर्स ने फेसबुक पर शेयर किया है। जिसके बाद ये स्टोरी वायरल हो गई।
Fisheye addresses women in advertising with a video on #MeToo
Root News of India 2018-12-07 11:07:09
Mumbai, December 6 (RNI) : Fisheye Creative Solutions Pvt. Ltd, a disruptive advertising and content agency, today launched a one-minute video supporting the #MeToo movement that has taken the business world by storm. The video pushes the #MeToo campaign to the next level by asking women in the advertising industry to keep the momentum going, to keep speaking up against sexual harassment in the work space, to keep ‘outing’ the offenders.
Indoor Air Quality in Hospitals
Root News of India 2018-12-03 09:01:06
New Delhi, December 3 (RNI) : Indoor Air Quality (IAQ) of a healthcare facility by definition involves a variety of factors such as thermal (temperature and relative humidity) conditions, presence of chemical components and contaminants as well the outdoor air quality. IAQ is vital in relation to environment inside hospitals, nursing homes and other healthcare facilities.
BSEB : इंटर परीक्षा-2020 के लिए 11वीं में रजिस्ट्रेशन की डेट जारी, दिसंबर में ही होगा सबकुछ
Rama Shanker Prasad 2018-11-27 21:25:45
पटना, 27 नवंबर (आरएनआई)। बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (BSEB) ने इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा, 2020 के लिए 11वीं में रजिस्ट्रेशन की तारीख जारी कर दी है. BSEB अध्यक्ष आनंद किशोर ने आज मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इसके लिए 6 से 20 दिसंबर तक रजिस्ट्रेशन और फीस जमा करने की तारीख रखी गई है. रजिस्ट्रेशन और फीस जमा करने की प्रक्रिया ऑनलाइन ही होगी।बोर्ड अध्यक्ष ने इसके साथ ही सभी विद्यालय प्रधानों को भी रजिस्ट्रेशन कराने से संबंधित कई निर्देश जारी किये है। मालूम हो कि बिहार बोर्ड ने 9वीं कक्षा में भी रजिस्ट्रेशन के लिए डेट का शेड्यल जारी कर दिया है. चेयरमैन आनंद किशोर के अनुसार शिक्षण संस्थानों के हेड 9वीं कक्षा में नियमित रूप से पढ़ रहे विद्यार्थियों तथा स्वतंत्र कोटि के विद्यार्थियों का रजिस्ट्रेशन/अनुमति आवेदन भराएंगे. साथ ही बोर्ड की वेबसाइट www.biharboard.online पर 15 नवंबर 2018 से 6 दिसंबर के बीच रजिस्ट्रेशन फॉर्म शुल्क के साथ आॅनलाइन जमा किये जाएंगे।
2019 में होने वाली मैट्रिक और इंटर परीक्षा तिथि की घोषित, परीक्षा होगा होम सेंटर
Rama Shanker Prasad 2018-11-16 13:33:26
पटना, 16 नवंबर (आरएनआई)। बिहार में इंटरमीडिएट परीक्षा की तारीख की घोषणा आज आनंद किशोर ने कर दी है. छात्रों को राहत देते हुए आनंद किशोर ने एग्जाम को होम सेण्टर पर होने का भी ऐलान किया. उन्होंने बताया कि वर्ष 2019 में होने वाली ये परीक्षा 6 से 16 फरवरी के बीच आयोजित की जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि मैट्रिक की परीक्षा 21 से 28 फरवरी के बीच आयोजित होगी और इस बार दोनों परीक्षा होम सेंटरों पर आयोजित की जाएगी। बीएसईबी के अध्यक्ष ने जानकारी दी कि इस बार इंटर की परीक्षा के लिए 13 लाख 492 परीक्षार्थियों ने फॉर्म भरा है. जबकि मैट्रिक की परीक्षा में 16 लाख 57 हजार 257 परीक्षार्थी शामिल होंगे. उन्होंने दावा किया कि पूर्व के वर्षों की तरह ही इस बार भी कदाचारमुक्त परीक्षा आयोजित की जाएगी। मैट्रिक की परीक्षा का कार्यक्रम इस प्रकार है….
मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना
Rama Shanker Prasad 2018-10-10 08:38:17
आरा, 10 अक्टूबर (आरएनआई)। दूरस्थ आबादी को शहरों तक परिवहन सेवा उपलब्ध कराने के साथ साथ रोजगार के क्षेत्र में भी यह योजना सराहनीय है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में यात्री परिवहन व्यवस्था सुलभ कराना एवं कमजोर वर्गों के बेरोजगार युवक एवं युवतियों के लिए रोजगार का सृजन करना है। अनुदान की राशि वाहन के खरीद मूल्य के 50% तक की राशि अथवा ₹100000 होगी। वाहन के खरीद मूल्य से अभिप्राय है- वाहन का एक्स शोरूम मूल्य, तृतीय पक्ष बीमा एवं वाहन टैक्स तीनों को जोड़कर कुल राशि। योजना के तहत 4 सीट से 10 सीट तक के नए सवारी वाहनों को योग्य माना जाएगा। इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए लाभुकों की अर्हता निम्नलिखित होगी।
अल्पसंख्यक बच्चों के लिए खुशखबरी, मुख्यमंत्री का फैसला
Root News of India 2018-09-11 19:37:45
पटना, 11 सितंबर (आरएनआई)। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित मैट्रिक परीक्षा में फर्स्ट डिवीजन लाने वाले छात्रों के लिए बड़ी खुशखबरी है. साल 2018 में मैट्रिक परीक्षा में प्रथम श्रेणी से पास होने वाले 18756 अल्पसंख्यक और सामान्य श्रेणी के छात्रों को सरकार 10000 रुपये प्रोत्साहन राशि देने का फैसला अब पूर्ण रूप से कर लिया है. जबकि मुख्यमंत्री ने पहले ही इसकी घोषणा की थी। इसके लिए बिहार सरकार ने वर्ष 2018-19 में 18 करोड़ 75 लाख 60 हजार की राशि की स्वीकृति भी दी है. बिहार सरकार शिक्षा विभाग से जारी पत्र के मुताबिक सामान्य और अल्पसंख्यक छात्र जिनके परिवार की वार्षिक आय डेढ़ लाख रूपय तक है, उन्हें ही यह राशि मिलेगी. इसके साथ ही उन छात्रों को प्लस टू में पढ़ने का प्रमाण देना पड़ेगा. प्रोत्साहन राशि सीधे आरटीजीएस के माध्यम से उनके खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी। शिक्षा विभाग ने इस बार यह फैसला लेते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के तहत यह राशि इस साल मैट्रिक परीक्षा में सामान्य और अल्पसंख्यक श्रेणी से पास करने वाले 18756 छात्रों को दी जाने वाली है।
विसंगतियों का अनावरण करता श्री शिवेंद्र मिश्र द्वारा लिखित नाटक संग्रह कसाई बना बकरा
Anand Mohan Pandey 2018-09-05 15:00:14
शाहजहांपुर, 5 सितंबर (आरएनआई) I वर्तमान में देश सहित विश्व स्तर पर व्याप्त विसंगतियों एवं चुनौतियों की वास्तविकताओं को कसाई बना बकरा नाटक संग्रह के कैनवास पर श्री शिवेंद्र मिश्र जी ने बड़ी ही तकनीकि योग्यता और तमाम समायोजन की क्षमता के साथ उकेरा है साथ ही उसमें भाषा शैली पर्यावरण परिदृश्य ध्वनि संयोजन एवं पात्रों की भाव भंगिमा के जो रंग भरे हैं वह श्री मिश्र जी की परिस्थितियों वास्तविकताओं और वातावरण के प्रति संवेदनशीलता तथा विवेक पूर्ण विश्लेषण करने की क्षमता का एक उदाहरण है नाटक संग्रह के प्रथम नाटक प्रजातंत्र की वेदना में प्रजातंत्र की वास्तविकता की सरल भाषा में इतनी सूक्ष्म सर्जरी की गई है कि हमारे प्राचीन सर्जरी के जनक सुश्रुत भी चकित रह गए होंगे इसके अतिरिक्त संग्रह में तीसरे क्रम के नाटक कसाई बना बकरा में एक ऐसे विभाग की संवेदनहीनता और वास्तविकता का अनावरण किया गया है जिसे लोग चिकित्सा विभाग के रूप में जानते हैं लोग कहते हैं कि इसमें पृथ्वीवासी ईश्वर पाए जाते हैं मिश्रा जी इस धारणा को पूरी तरह खारिज नहीं करते किंतु आज अधिकतर किस प्रकार के ईश्वर वहां पाए जाते हैं उनके कृत्य एवं रूप का सजीव और यथार्थ सत्य वर्णन श्री मिश्र जी ने किया है साथ ही इस नाटक में कलम भक्षियों को निर्वस्त्र किया गया है जो अपने को लोकतंत्र के एक स्तंभ होने का भ्रम पाले हुए हैं रही बात दूसरे क्रम के नाटक आदर्शों की सीता की तो इसमें भाषा अवश्य थोड़ी क्लिष्ट है या कहें सामान्य परंपरागत भाषा से हटकर है किंतु यह कृति साहित्य के उच्च सृजन में किया गया नवीन एवं सार्थक प्रयोग है कुल मिलाकर वर्तमान में व्यवस्थाओं के क्षरण और वास्तविकताओं को प्रतिबिंबित करता यह नाटक संग्रह गागर में सागर भरने के समान है साथ ही मानवीय मूल्यों एवं संवेदना के प्रति श्री शिवेंद्र मिश्र जी की अतल संवेदनशीलता तथा शब्द शिल्पता की क्षमता उन्हें ईश्वरीय देन है
३१ अगस्त को मनाये काला दिवस :- डा ओमकार नाथ कटियार
Root News of India 2018-08-26 17:23:35
नई दिल्ली, 26 अगस्त (आरएनआई) I देश की आजादी की लडाई लडी गयी १८५७ से १९४७, यानी ९० साल तक चली । जिन अंग्रेजो ने ६०० साल पुरानी मुगलिया सल्तनत खत्म कर दी और जिन अंग्रेजो के पास था बंदूक, रायफल, तोप, गोला बारूद, फौज, यहां तक भारत के सभी राजा महाराजा जमींदार और उनकी फौजे भी अंग्रेजो के साथ थी सबसे पहले किसान अंग्रेजों के खिलाफ १८४२ मे बागी हुआ क्योकि अंग्रेजो ने ग्राम स्वराज की जगह पटवारी, दरोगा, कलक्टर, और जज बैठाये । परिणाम स्वरूप किसानों ने १८५७ लडा और जीता पर पं जवाहर लाल के दादा पं गंगाधर नेहरू ने अंग्रेजो का पहला दिल्ली शहर कोतवाल होते गददारी की जिसके कारण पूरे देश मे आजादी की लडाई छिड गयी तब दो करोड लोग जंग मे मारे गये थे एक करोड को फांसी दी गयी थी सवा लाख गांवो को अंग्रेजो ने जलाया , लूटा, उजाडा और तोपो से नष्ट किया था अकेले आगरा- अवध संयुक्त प्रांत मे दो करोड की आबादी मे एक करोड का कत्ल किया गया था कलकत्ता से काबुल तक ऐसा कोई पेड नही जहां ४-६ लाशे न लटकी हो और ७-८ महीने बाद अंग्रेज फिर से दिल्ली पर काबिज हो गये । फिर शुरू हुआ सामूहिक कत्ले आम और फांसियो का दौर, और सभी शहरो मे पकड पकड कर सामूहिक फांसिया दी जाती रही अकेले जौनपुर जिले मे ७-८-९ जून १८५८ मे तीन लाख भारतियों को फांसिया दी गयी उसके बाद अंग्रेजो ने आम १८६० लगाई और सामूहिक फांसियां दी जाती रही, उसके बाद अंग्रेजो ने सीआरपीसी लगाकर भारतियों पर जुर्म ढाये तब भी जब अंग्रेजो के खिलाफ बगावत कम नही हुई तब अंग्रेजो ने हम सब भारतियो पर अंकित अपराथी जन जाति एक्ट ( नोटीफाइड क्रिमिनल ट्राइब एक्ट १८७१........१९२४.....१९४६ जो ३१ अगस्त १९५२ को पं जवाहर लाल नेहरू ने बडीं चालाकी से इन एक्टो को डीनोटीफाइड (बिमुक्त) किया पर जन्म जाति अपराधी कानून को हैविचुअल एक्ट यानी आदतन कानून ३४ मे बदल कर हम सब पर एक और कालिग पोत दी ये हैविचुअल एक्ट(आदतन कानून) नही होना चाहिये था क्यो कि हम सब के पूर्वज अंग्रेजो के खिलाफ बागी रह कर लाठी ,डंडा, बरछी, भाला, कुदाल,फावडा,और कुल्हाडी और तलवार से लडे और आजादी मिलने के बाद लगभग ढाई करोड बागी लोगो (औरत आदमी बडे बच्चो) को जेल से निकाला सरदार पटेल जी ने देखा कि इनके पास न छप्पर, न मडैया, न घर, न मकान, न पढाई , न नौकरी थी तो सरदार पटेल जी ने होम मिनिस्टर होते हुये ठक्कर बापा कमेटी १९४७-४९ बनाई बाद मे १९४९-५० अयंगर कमेटी ( क्रिमिनल ट्राइब इंक्वारी कमेटी बनाकर तीन पीडियों के लिये मान सम्मान और पेंशन दी क्योकि अंग्रेजो ने हम सबकी ३-४ पीडियो को हर तरह से बर्बाद किया ( जर- जोरू - जमीने लूटी, फांसियां खाई, गोलियां खाई, काले पानी की सजाये काटी, देश निकाले लिये , और ८१ सालो तक जन्म जाति अपराधी अपराधी के मुकदमे चलाये । अंग्रेजो ने कांग्रेस से कहा कि अगर देश पर राज करना है तो किसानो और सभी बिमुक्ति जन जातियो को कुत्ते की तरह भूखा रखो सरदार पटेल तो १५-१२-१९५० को नही रहे, पर पं जवाहर लाल नेहरू ने अपने दादा पं गंगाधर नेहरू की गददारी छुपाने के लिये षडयंत्र किया यहां तक जब फरवरी - मार्च १९५२ मे पहले लोक सभा और बिधान सभा चुनाव हुये पं जवाहर लाल नेहरू ने उन सभी को फिर से जेल मे डाल दिया,और न इनको लोकसभा ,बिधानसभा चुनाव तक नही लडने दिया न उनको वोट देने दिया बल्कि उनको जेलो मे डाल दिया और बाद मे हमदर्दी दिखाते हुये उन सब को डीनोटीफाइड यानी बिमुक्ति कर दिया । केंद्र सरदार इन सबके मान सम्मान के लिये अबतक १३ कमीसन और कमेटी बना चुकी है पर सिफारिसे किसी की नही मानी है । अल हिन्द पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट मे केस किया दो जजो की खंडपीठ ने दिल्ली हाई कोर्ट भेजा हमने दिल्ली हाई कोर्ट मे केस किया कोर्ट के आदेश पर महामहिम राष्टपति राम नाथ कोविन्द जी ने दिल्ली हाई कोर्ट की पूर्व मुख्य न्यायधीश के अधीन ४ सदस्यीय कमीसन २ अक्टूबर २०१७ को बनाना पडा आजादी के ७१ साल बाद पहली बाद राष्टपति जी ने जूडिसियल कमीसन बनाया है जो अपनी रिपोर्ट सीधे महामहिम राष्टपति जी को सौपेगा।

Top Stories

Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?